थायरॉयड रोगियों के लिए लाभकारी विपरीतकरणी आसन

Loading...

विपरीतकरणी आसन सिर के बल किया जानेवाला आसन है, किंतु इस आसन को हमेशा किसी कुशल योग विशेषज्ञ के मार्गदर्शन में ही किया जाना चाहिए. इस अभ्यास में रक्त का प्रवाह शरीर के ऊपरी भाग में होता है तथा यह थायरॉयड रोगियों के लिए अत्यंत लाभकारी है. इसके अलावा यह प्रजनन, पाचन, तंत्रिका एवं अंत: स्रावी तंत्रों में भी संतुलन लाता है. पीठ के बल लेट जाएं. ध्यान रहे आपके दोनों पैर और पंजे एक साथ रहेंगे तथा एक सीधी लाइन में होंगे.

Yoga for thyroid problems

दोनों हाथों को शरीर के बगल में रखें तथा हथेलियां जमीन की ओर मुड़ी रहेंगी. अब पूरे शरीर को शांत एवं तनावमुक्त बनाने का प्रयास करें. यह अभ्यास की आरंभिक अवस्था है. अब दोनों पैरों को सीधा एवं एक साथ रखते हुए ऊपर उठाएं. पैरों को शरीर के ऊपर उठाते हुए सिर की ओर ले जाएं. इस दौरान भुजाओं तथा हथेलियों से जमीन का सहारा लेते हुए नितंबों को ऊपर उठाएं.पैरों को सिर की ओर अधिक ऊपर ले जाते हुए मेरुदंड को जमीन से ऊपर उठाने का प्रयास करें.

अब हथेलियों को ऊपर करते हुए दोनों कोहनियों को मोड़ें और हाथों को कमर पर इस प्रकार व्यवस्थित करें कि नितंबों का ऊपरी भाग कलाइयों के निकट हथेलियों के आधार पर टिका रहे. इस क्रम में हथेलियां नितंबों को थामे रहें और शरीर को सहारा देते रहें. इस दौरान जहां तक संभव हो, कोहनियों को एक-दूसरे के निकट रखने का प्रयास करें. दोनों पैरों को लंबवत सीधा रखते हुए उन्हें शिथिल बनाएं. अंतिम स्थिति में शरीर का भार धीरे से कंधों, गरदन और अपनी कोहनियों पर व्यवस्थित करें.

इस दौरान आपका धड़ जमीन से 45 डिग्री के कोण पर रहेगा और पैर लंबवत रहेंगे. ध्यान रहे कि ठुड्डी वक्ष पर दबाव न डाले. अब आंखों को बंद कर लें और अंतिम स्थिति में आराम से जितनी देर संभव हो विश्राम करें. प्रारंभिक स्थिति में लौटने के लिए पैरों को नीचे लाएं और फिर भुजाओं और हाथों को शरीर के निकट बगल में जमीन पर रखें. हथेलियां नीचे की ओर रहेंगी. अब धीरे-धीरे मेरुदंड की एक-एक कशेरूका को नीचे लाते हुए पूरे मेरुदंड को जमीन पर लाएं. सिर को ऊपर नहीं उठाएं. जब नितंब जमीन पर आ जाये, तब पैरों को सीधा रखते हुए नीचे ले आएं. अब शरीर को शवासन में शिथिल करें.

श्वसन : इस अभ्यास के दौरान जब आप जमीन पर लेटे रहेंगे, तब श्वास लेंगे. अभ्यास की अंतिम अवस्था में सांस रोकें और अंतिम स्थिति में जब स्थिर हो जाएं, तब सामान्य श्वसन करें. शरीर को नीचे लाते समय श्वास अंदर रोकें तथा प्रारंभिक अवस्था में आ जाने के बाद सांस छोड़ें.

Source: palpalindia

Loading...

वाह हिंदी की चटपटी खबरें, अब Facebook पर पाने के लिए लाईक करें—>fb.com/WahHindi

Loading...

Next post:

Previous post: