जाने आपका वजन क्यों कम नहीं हो रहा ?

Loading...

अगर आप वज़न कम करने के लिए स्ट्रिक्ट हेल्दी डाइट और फिटनेस प्लान के बावजूद भी सही नतीजा नहीं पा रहे, तो वक़्त आ गया है कि आपकी सफलता में बाधक कारण पता किये जाएँ। डाइट में गड़बड़ी से लेकर फिज़िकल फैक्टर्स तक, जानें 10 बातें जो आपको वज़न कम करने से रोक रही हैं।Why You Are Not Loosing Weight in Hindi1. आप एक्सरसाइज की भरपाई करते हैं (You Compensate Exercise)

वर्कआउट के बदले स्वयं को दावत का इनाम देकर भरपाई करने के प्रलोभन से हम सभी वाकिफ हैं (पर आपने अभी अभी तो कैलोरीज बर्न करी हैं ना?) किन्तु इस तरह अपना कैलोरी इन्टेक बढ़ाकर आप अपनी मेहनत पर पानी फेर रहे हैं। दरअसल हम अंदाजा लगाते हैं कि हमने बहुत सारी कैलोरीज बर्न करी हैं और इस चक्कर में जितनी कैलोरी कम नहीं हुई होती है हम उससे ज्यादा खा कर अपने अन्दर बढ़ा लेते हैं और इससे वजन ज्यादा बढ़ता है।

2. आप भरपूर नींद नहीं लेते हैं (You Do Not Sleep Well)

आप सोचते हैं कि नींद में कमी कर वर्कआउट के लिए समय निकालना सेहत और फिटनेस की दृष्टि से अच्छा है किन्तु भरपूर नींद न लेने से एक्सरसाइज का पूर्ण फायदा नहीं मिलता और नतीजन वज़न बढ़ता है। नींद पूरी नहीं होने से एक्सरसाइज करने में और सहनशक्ति में कमी आती है, मेटाबोलिज्म कमज़ोर होता है, भूख बढ़ने लगती है और कुछ भी खा लेने की इच्छा के आगे घुटने टेक दिये जाते हैं। नींद पूरी न होने से तनाव के स्तर में वृदधि होती है और इससे भी वज़न बढ़ता है।

3. आप मीठे पेय ज्यादा पीते हैं (You Drink More Sweetened Drinks)

आप सही खाने का ध्यान रखते हैं, ऑयली फ़ूड या फैटी फ़ूड नहीं खाते, बीच बीच में खाने की आदत भी नहीं, किन्तु क्या आपने सोचा है कि प्रतिदिन आप कितनी कैलोरीज पी जाते हैं? हम यूँ तो जानते हैं कि कैलोरी की गुनहगार अल्कोहल है, पर हमें फ्रूट जूस, स्मूदी, सॉफ्ट ड्रिंक्स और हॉट ड्रिंक्स से मिलने वाली कैलोरीज पर भी ध्यान देना चाहिए। रोज़ की डाइट में हर एक कैलोरी मायने रखती है, इसलिए मीठे पेयों से मिलने वाली कैलोरी को नज़रंदाज़ नहीं करना चाहिए।

4. आप एक बार में ज्यादा मात्रा में खाते हैं (You Eat Very Much in Quantity)

अगर आप कम फैट वाले स्वस्थ भोजन ले रहे हैं मगर फिर भी वज़न कम नहीं हो रहा, तो भोजन की मात्रा पर ध्यान दें। आप शायद सोचते होंगे कि आप पूरे दिन में सिर्फ तीन बार खाते हैं, परन्तु हकीकत यह है कि भोजन की जो मात्रा आप खाते हैं वो दिन के 6 बार के खाने के बराबर होती है। हम चाहे कितना भी हेल्दी खाना खाएं, हमे उसकी मात्रा सामान्य ही रखनी चाहिए अन्यथा हमारा वज़न बढ़ता ही रहेगा।

5. आप बहुत कम खा रहे हैं (You are Eating too Little)

जहाँ ज्यादा खाने से वज़न बढ़ता ही है, वहीँ कम खाना भी वजन घटाने में सहायता नहीं करता। हमारा शरीर प्राकृतिक तौर पर अपनी रक्षा करता है इसलिए जब हम इसे भरपूर भोजन नहीं देते तो ये स्वयं भूखे रहने की प्रक्रिया अपनाते हुए मेटाबोलिज्म को कम कर देता है और इसमें फैट्स और कैलोरीज इकठ्ठे हो जाते हैं। इसका नतीजा यह होता है कि वज़न कम करना और मुश्किल हो जाता है।

6. आप कंसिस्टेंट (अटल) नहीं हैं (You are not Consistent)

अपना मेटाबोलिज्म और वेस्ट लाइन के लिए ज्यादा या कम खाने के इरादे से ज्यादा नुकसानदायक है कम और ज्यादा के बीच की जद्दोजेहद। अगर आप फैड डाइट्स को बिलकुल बंद करके एक तरफ तो सोचें कि बिलकुल भूखा रहना है और दूसरे पल ही ढेर सारा खाने लग जाएँ तो यह आपके मेटाबोलिज्म से खिलवाड़ होगा और आपके शरीर में ज्यादा फैट जमा हो जाएगा। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि बहुत कम खाने से मेटाबोलिज्म कमज़ोर पड़ता है और जब हम ज्यादा खा लेते हैं तो मेटाबोलिज्म का कम होना फैट्स को हमारे शरीर में इकठ्ठा कर देता है।

7. आप वर्क-आउट्स में बदलाव नहीं करते (You do not make changes in Workout)

अगर आप एक जैसा वर्क-आउट रूटीन रखते हैं तो आपको उसका सही परिणाम नहीं मिलेगा। एक जैसी एक्सरसाइज लगातार करना बहुत बोरिंग हो जाता है और आप इसे ना करने के बहाने भी ढूँढने लगते हैं, आपको इसका सही फल भी नहीं मिलता। आपका शरीर एक किस्म के वर्क-आउट का आदी हो जाता है जिससे उसे करने में शरीर को ज्यादा मेहनत नहीं करनी पड़ती, इस कारण कम कैलोरीज बर्न होती हैं।

8. आपको वजन कम करने की ज़रूरत ही नहीं (You Do Not Need to Lose Weight)

मोटापे की बढती समस्या के कारण हर कोई वज़न कम करने में लग गया है। सच्चाई यह है कि बहुत से लोगों को वज़न कम करने की सख्त ज़रूरत है किन्तु आपको भी हो यह ज़रूरी नहीं। अपने शरीर को अवास्तविक सा आकार देने की बजाये (ध्यान रखिये की आप जितने हलके हैं उतना ही वज़न घटाना मुश्किल होगा) आप अपने आप से और अपने डॉक्टर से सलाह लें कि क्या आपके लिए वजन घटाना ज़रूरी है? अगर नहीं तो डाइटिंग या वज़न कम करने का इरादा दिमाग से निकाल कर अपने आत्मबल को बढाने का इरादा कर लें।

9. आपके वजन से बॉडी फैट का पता नहीं चलता (You Do Not Get to Know Your Body Fat by Weight)

कुछ लोगों के लिए वज़न का मतलब है कि उन्होंने कितना फैट पुट-ऑन किया या कितना कम किया। मशीनें आपको आपके वज़न का नाप तो बता देती हैं किन्तु ये नहीं बताती कि आपके वज़न में कितना हिस्सा फैट है, कितना पानी, कितना मसल, इसलिए वज़न कम करने से कितना फैट कम हुआ यह पता नहीं चलता। फिटनेस रूटीन में मसल्स का बढ़ना वजन कम करने शरीर में पानी रोकने की प्रक्रिया को कम कर सकता है।

10. अगर आप मेडिकल कंडीशन से ग्रस्त हैं (If You Suffer from a Medical Condition)

कुछ तकलीफें जैसे पॉली सिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (पी.सी.ओ.), थाइरोइड और हारमोन में असंतुलन वज़न बढ़ा देती हैं, जिसे कम करना लगभग असंभव सा होता है। साथ ही, खाने से सम्बंधित एलर्जी जिसके बारे में आप अनजान हैं, यह भी वजन कम करना मुश्किल बना देती है। ज़रूरी नहीं कि इन उपरोक्त स्थितियों की वजह से वज़न बढ़ता हो, वजन तो बढ़ता है इन तकलीफों को कंट्रोल करने वाली दवाओं से जिनके साइड-इफ़ेक्ट के रूप में वजन बढ़ता जाता है।

Source: healthindian

Loading...

कृपया इस महत्वपूर्ण जानकारी को अपने परिवार और मित्रों  के साथ ज्यादा से ज्यादा शेयर करें!

Loading...

Next post:

Previous post: