मानव जीवन के लिए बहुमूल्य है जल

Loading...

मानव जीवन के लिए बहुमूल्य है जल

यह बात तो हम सभी जानते है कि जल ही जीवन है और जल के बिना जीवन मुमकिन नहीं। सही भी है आप कुछ दिन बिना खाए तो रह सकते हैं लेकिन बिना पानी के जीवित रह पाना मुमकिन नहीं। पानी न सिर्फ हमारी प्यास बुझाता है बल्कि पाचन-तंत्र से लेकर मस्तिष्क के विकास तक में अहम भूमिका निभाता है। पानी मानव जीवन के लिए बहुमूल्य है और बचपन से ही हम इसके फायदों के बारे में सुनते आये हैं। किसी भी बीमारी में पानी रामबाण की तरह काम करता है।

पानी क्यों चाहिये ? अर्थात पानी के कार्य:

एक वयस्क व्यक्ति के शरीर में 60-65% पानी होता है और नवजात शिशु के शरीर में 76-78% तक पानी होता है। पानी की इस मात्रा में जब 1-2% की भी कमी आती है तो व्यक्ति प्यासा या असामान्य होने लगता है। अतः शरीर को लगातार पर्याप्त पानी मिलते रहना चाहिए । पसीने, पेशाब व शौच के साथ पानी निकलता रहता है। जब शरीर में पानी जरूरी स्तर से कम हो जाता है, तो उसे De-hydration कहते हैं । इसमें व्यक्ति शिथिल व कमजोर हो जाता है; समय पर पानी नहीं मिलने पर मौत तक हो सकती है ।

1. पानी शरीर के सामान्य तापमान को बनाये रखने में बहुत महत्वपूर्ण है ।

2. पानी रक्त के साथ-साथ पौष्टिक तत्व और ऑक्सिजन विभिन्न कोशिकाओं तक ले जाता है ।

3. यह त्वचा और अन्य ऊतकों में आवश्यक नमी बनाकर रखता है ।

4. यह पाचन-तंत्र में भोजन को पचाने तथा आगे बढ्ने के लिये जरूरी है । इसके अभाव में कब्जियत व अपच हो सकती है ।

5. यह जोड़ो तथा मांस-पेशियों को स्वस्थ्य व गतिशील बनाये रखने के लिये भी जरूरी है ।
पानी कब-कितना पिये ?

6. दिनभर में समान्यतः एक वयस्क व्यक्ति को 2.5 से 4 लीटर तक पानी पीना चाहिये अर्थात 10-12 गिलास पानी पीना अच्छी आदत है ।

7. सुबह उठते ही कम से कम एक पूरा गिलास या 2-3 गिलास तक पानी पीना चाहिए । भारत में प्राचीन समय से ‘उषापान’ के नाम से 2-3 गिलास या (अधिकतम) 1 लीटर तक भी पानी पीने की परंपरा रही है । यह कब्जियत से बचने के लिये अच्छी आदत है ।

8. पूरा भोजन जब भी लें (दो या तीन बार) तब एक गिलास (250-300 ग्राम) पानी अवश्य लें । भोजन के साथ या तुरंत बाद एक गिलास से अधिक पानी पीना उचित नहीं है । इसके अलावा हर एक घंटे में आधा-एक गिलास पानी पीते रहना चाहिए ।

9. कोई भी व्यायाम करने से 10-15 मिनट पहले और 20-30 मिनट बाद पानी पीना चाहिए । पाश्चात्य लोग तो व्यायाम के दौरान भी पानी पीने की सलाह देते हैं । परंतु भारतीय जानकार इसे टालना उचित मानते हैं ।

10. चाय, काफी या सॉफ्ट-ड्रिंक्स लेने से प्यास कम हो जाती है और जो लोग ऐसे अन्य पेय अधिक पीते हैं, वे पानी कम पीते हैं । लेकिन चाय-काफी आदि से आंशिक रूप से ही पानी मिलता है । इसलिए बेहतर है कि ऐसे पेय कम (दिन में 1,2 या 3 कप) ही लें और पानी पर्याप्त पिये ।

11. अपने कार्य-स्थल पर व जब भी घर से बाहर जाएँ तो ध्यान रखेँ कि आपको स्वच्छ पानी हर जगह और हर समय मिल सकें । जहां भी इस सुविधा में आशंका हो, अपने साथ घर से वॉटर-बॉटल ले जाने में संकोच ना करें ।

12. जब कभी सादे पानी से आपकी प्यास नहीं बुझ रही हो; या आपको गर्मी व अधिक पसीना आने से अधिक प्यास लग रही हो, तो बेहतर है कि सादे पानी में उपलब्ध्ता अनुसार ग्लुकोज़/ ORS/ शक्कर मिला लें। रुचि अनुसार नीबू का रस व चुटकी भर नमक मिलाना भी अच्छा है । गर्मियों में, दिन में 1-2 बार खट्टे-मीठे (संतरा वर्ग के) फलों का रस लेना तो बहुत लाभकारी है ।

13. रात का भोजन यदि आप सोने से कम-से कम दो घंटे पहले लें और फिर एक गिलास पानी पीकर सोएँ; तो सबसे अच्छी बात है । किन्तु काम के रूटीन में यदि ऐसा संभव नहीं है, तो भी बेहतर है कि भोजन के बाद करीब एक घंटा जागकर फिर आधा गिलास पानी पीकर सोएँ ।

पानी पीने का तरीका:

पानी स्वच्छ, निर्मल हो और मनभाता ठंडा हो, बहुत अधिक या फ्रीज़-कूल्ड नहीं हो और उसे आप आराम से, धीरे-धीरे करके पिये; इतनी ही पानी पीने के तरीके के बारे में हिदायत है । उपरोक्त बातों का ध्यान रखकर आप पानी संबंधी अपनी आदतें बना लेंगे; तो स्वास्थ्य संबंधी कई समस्याओं में यह लाभकारी होगा ।

Loading...

Source: newstracklive
कृपया इस महत्वपूर्ण जानकारी को अपने परिवार और मित्रों के साथ ज्यादा से ज्यादा शेयर करें!

Loading...

Next post:

Previous post: