अधिक पेशाब आना!

Loading...

अधिक पेशाब आने के बहुत से कारण हो सकते हैं। कुछ कारण नीचे लिखे गए हैं।
अधिक चाय, कॉफ़ी, शराब और ठंडे पेय पीना।
ठंडे पानी में भीगने से भी पेशाब अधिक आता है।
जिन लोगों को प्रमेह या डायबिटीज होता है उन्हें भी अधिक पेशाब आता है।
यदि छोटे बच्चों को अधिक पेशाब आता है तो उनके पेट में कीड़े हो सकते हैं।

Urination problems
उपचार :-
अधिक चाय, कॉफ़ी, शराब, बीयर और ठंडे पेय पीना बंद कर दें अगर बिलकुल बंद नहीं सकते तो थोड़ी मात्रा में ही पिएं।
दिन में दो बार एक चम्मच अजवाइन को नमक के साथ खाकर पानी पी लें। ऐसा करने से कुछ ही दिनों में अधिक पेशाब का रोग ठीक हो जाएगा।
रोजाना नाश्ते में या नाश्ता करने के बाद दो पके केले खाएं। कुछ ही दिनों अधिक पेशाब आना बंद हो जाएगा।
मेथी का साग खाने से अधिक पेशाब आने की समस्या ठीक हो जाती है। मेथी के साग की मात्रा एक कटोरी होनी चाहिए।
अगर बच्चा अधिक पेशाब करता है तो जायफल घिसकर एक चौथाई चम्मच चटाकर बच्चे को दूध पिला दें। 3 से 4 दिनों में अधिक पेशाब आना बंद हो जाएगा।
पालक का साग खाने से भी अधिक पेशाब आना सामान्य हो जाता है। रोजाना एक कटोरी पालक का साग खाएं।
आंवले के पांच ग्राम रस में हल्दी की चुटकी घोलिए और उसमें पांच ग्राम शहद मिलाकर पी जाइये। ऐसा करने से जरा-जरा सी देर में पेशाब का आना बंद हो जाता है।
मूली के नियमित प्रयोग से बहुमूत्र में आराम मिलता है
बबूल का गोंद घी मे भून कर मक्खन के साथ सुबह को खाने से फ़ायदा होता है
अदरक का ताजा रस सेवन करने से रुका हुआ मूत्र जल्दी बाहर निकल जाता है, साथ ही बहुमूत्र की शिकायत भी दूर होती है
जामुन की गुठली एवं बहेडे का छिलका दोनो बारीक पीस लें, आठ दिन तक चार ग्राम रोज पानी के साथ लें, बार बार पेशाब आना बंद हो जायेगा।
कलमी शोरा दस ग्राम दूध दो सौ पचास ग्राम और पानी एक किलो इन सबको मिलाकर दिन में दो बार पियें पेशाब खुलकर आयेगा और बहुमूत्र रोग ठीक हो जायेगा।
आंवले का सूखा चूर्ण गुड़ के साथ मिलाकर लेने से पेशाब खुलकर आता है
पिस्ता छ: दाने मुनक्का तीन दाने और काली मिर्च तीन दाने, इन्हे सुबह शाम चबाकर पंद्रह दिन खाने से पेशाब बार बार नही आयेगा!

Source: ज्ञान वर्धक उपाय

Loading...

कृपया इस महत्वपूर्ण जानकारी को अपने परिवार और मित्रों  के साथ ज्यादा से ज्यादा शेयर करें!

Loading...

Next post:

Previous post: