बच्चों को बिस्तर में पेशाब करने से कैसे रोकें?

Loading...

माता पिता को बच्चों की बिस्तर में पेशाब करने की आदत बड़ी सामान्य लगती होगी| यह गहरी नींद में पेशाब करने की आदत होती है| बच्चों का मूत्राशय छोटा होता है जिस वजह से बहुत देर तक वे पेशाब को रोक नहीं सकते| यह बिस्तर में पेशाब करने का एक कारण हो सकता है| कई बच्चों की यह समस्या आनुवंशिक होती है| इसी के साथ कभी यह डरावने सपनों के कारण भी हो सकता है|

Tips to stop bed wetting in children

यह समस्या समय के साथ ठीक हो जाती है| पर कई जगहों में यह होना माता पिता के लिए शर्मिंदगी से भरा हो सकता है| बच्चे भी इसके कारण सहम जाते हैं| इसीलिए माता पिता इस समस्या के समाधान ढूंढ़ते हैं| इसे ख़त्म करने के लिए कई प्राकृतिक उपचार हैं|

गुड़

गुड़ हमारे किचन में आसानी से उपलब्द होता है| बच्चे के शरीर को अंधरुनी गर्मी देने के लिए यह एकदम उत्तम होता है| इसका सेवन करते ही बच्चे को अंदर से गर्मी मिलती है| इससे बिस्तर में पेशाब करने की समस्या को खत्म किया जा सकता है| अपने बच्चे को रोज़ सुबह गरम दूध के साथ गुड़ का टुकड़ा खिलाएं|

क्रैनबेरी रस

मूत्राशय या गुर्दे की खराबी के कारण यह समस्या हो सकती है| चूँकि क्रैनबेरी का रस गुर्दे, मूत्र पथ और मूत्राशय के लिए अच्छा होता है, आप इसे अपने बच्चे को पिला कर इस समस्या का समाधान कर सकते हैं| यह बच्चे के सोने के एक घंटे पूर्व दिया जाना चाहिए| इसके अच्छे परिणामों को देखने के लिए करीब एक महीने तक इसे उपयोग में लाएं|

सरसों का पाउडर

यह पाउडर हमारे किचन में काफी उपयोग में लाया जाता है| इसे बनाने के लिए एक कप गरम दूध में आधा चम्मच सरसों के बीज का पाउडर मिला कर मिश्रण बना लें| अपने बच्चे के सोने के पहले ये उसे पीने को दें| शोध के अनुसार, मूत्र पथ की समस्या को सही करने के लिए सरसों के बीज एकदम उचित उपचार है| मुट्ठी भर सरसों के बीज का सेवन करने से बिस्तर में पेशाब की इस समस्या से निजात पायी जा सकती है|

देसी करोंदा

देसी करोंदे को आम भाषा में आमला कहा जाता है| यह कई तरह के बिमारियों को ठीक करने में अनुकूल होता है| इनमें से एक है बिस्तर में पेशाब करना| मिक्सर या ग्राइंडर में आमले को पीस कर उसका गुदा निकाल लें| अब दो चम्मच गुंडे में चुटकी भर काली मिर्च डालें| अपने बच्चे को इसे सोने के पहले खाने का कहें| इस मिश्रण से बिस्तर में पेशाब करने की समस्या को खत्म किया जा सकता है| आप इसे शक्कर और जीरे के साथ भी बना सकते हैं| इसे अपने बच्चे को दिन में दो बार खाने को दे|

केला

कई सालों से केला पेट के लिए अच्छा माना गया है| आप अपने बच्चे को दिन में २-३ केले खिला सकते हैं जिससे यह समस्या का समाधान होता है| आप एक पका हुआ केला दिन में एवं एक रात में खिला सकते हैं|

माता पिता अपने बच्चों से यह उम्मीद न करे की वह इस आदत को तुरंत छोड़ देंगे| आप यह घरेलु नुस्खे अपना सकते है और उन्हें बाथरूम जाने की आदत लगाएं| आप इन घरेलु नुस्खों को अपनाते वक़्त धैर्य रखें|

Source: hinditips

Loading...

कृपया इस महत्वपूर्ण जानकारी को अपने परिवार और मित्रों के साथ ज्यादा से ज्यादा शेयर करें!

Loading...

Next post:

Previous post: