कहीं आप भी 8 ग्लास से ज्यादा पानी (Water) तो नहीं पीते ? तो पढ़िए…

Loading...

drinking glass of waterजरुरत से ज्यादा Water पीना भी हो सकता है खतरनाक, ये आपको भले ही सुनने में अजीब लग रहा हो, क्योंकि अक्सर कहा यही जाता है कि ज्यादा पानी पीना सेहत के लिए अच्छा है, लेकिन ऐसा नहीं है। पानी की कमी और अधिकता दोनों ही हमारे सेहत के लिए बेहद खतरनाक है. Water की कमी से जहां डी-हाइड्रेशन होने का खतरा बढ़ जाता है वहीं ज्यादा पानी पीने से ओवरहाइड्रेशन की शिकायत होने की संभावना बढ़ जाती है. यानी बहुत अधिक Water पीना भी नुकसानदेह हो सकता है.

जगह और माहौल पर निर्भर करता है पानी की लिमिट

किसी शख्स को कितने गिलास Water पीना चाहिए, इसका कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है. अक्सर बोल चाल में रोजाना 8 से 10 गिलास पानी पीने की बात की जाती है। लेकिन आठ या दस गिलास पानी पीने की बात महज अंदजा है, न की कोई व्यज्ञानिक आधार। किसी भी इंसान को एक दिन में कितना पानी पीना चाहिए ये पूरी तरह से उस जगह के माहौल, और उस व्यक्त‍ि की आयु, लिंग के साथ ही उसकी फिटनेस पर डिपेंड करता है. ऐसे में अगर आप भी अगर रोजाना 8 से 10 गिलास पानी पी रहे हैं तो थोडा सावधान हो जाएं, कहीं ऐसा न हो कि ये आप पर भारी पड़ जाए।

ज्यादा पानी पीने से कम हो सकता है खून का गाढ़ापन

यानी की हमारे सेहत के लिए Water की कमी और अधिकता दोनों ही बेहद खतरनाक है. एक रीसर्च के मुताबिक पानी की कमी से जहां डी-हाइड्रेशन होने का खतरा बढ़ जाता है, वहीं अगर आप रोजाना जरुरत से बहुत ज्यादा Water पीते हैं तो इससे आपको कभी भी ओवरहाइड्रेशन का खतरा बना रहता है। यही नहीं पानी की कमी से एक तरफ जहां मांस-पेशियों में ऐंठन आ सकती है, तो दूसरी तरफ बहुत ज्यादा पानी पीने से खून का गाढ़ापन कम हो जाता है. डॉक्टर्स की मानें तो पानी उतना ही पीना चाहिए जितने से प्यास बुझ जाए. प्यास नहीं लगी हो तो जबरदस्ती पानी नहीं पिएं.

यूरीन का हल्का पीला होना सामान्य बात

अक्सर पेशाब पिला होते ही हम ज्यादा पानी पीना शुरू कर देते हैं, लेकिन ऐसा करना नहीं चाहिए, क्योंकि Urine हल्का पीला होना सामान्य बात होती है, इससे घबराकर ज्यादा पानी नहीं पीना चाहिए। इस कंडीशन में ज्यादा पानी पी लेने से चक्कर आने लगते हैं और कई बार तो दिल की धड़कन भी तेज हो जाती है. प्यास लगने का मतलब होता है हमारे शरीर में पानी की कमी हो गई है, और प्यास लगना भी हमारे सेहत के लिए अच्छा माना जाता है. ऐसे में पानी तभी पिएं जब आपको इसकी जरूरत महसूस हो, और पानी उतना ही पियें जितनी प्यास लगी हो। थोड़ी-थोड़ी देर में जबरदस्ती पानी पीना सही नहीं है.

शरीर में पानी की कमी का पता यूरीन के रंग से भी चल जाता है. अगर आपके यूरीन का रंग गहरा है तो इसका सीधा मतलब है कि आपके शरीर में पानी की कमी है. पर इसे ठीक करने के लिए ढ़ेर सारा पानी पी लेना सही नहीं है. यूरीन का हल्का पीला होना सामान्य बात है.

Source: indiatrendingnow

कृपया इस महत्वपूर्ण जानकारी को अपने परिवार और मित्रों  के साथ ज्यादा से ज्यादा शेयर करें!

Loading...

Next post:

Previous post: