बूंद-बूंद है अनमोल, यूं करें पानी की बचत

Loading...

पानी हमारे जीवन में बहुत अहम है। यह धरती पर रहने वाले सारे प्राणियों के जीवन का आधार है। हम भोजन के बिना तो दो दिन रह सकते हैं लेकिन पानी के बिना आधा दिन गुजारना कठिन हो जाता है। यह जानते हुए भी कि जल ही जीवन है, हम पानी की अहमियत से अनजान बने हुए हैं और लगातार इसकी बर्बादी कर रहे हैं। हम इसकी इतनी वेस्टेज कर रहे हैं कि हमें यह साधारण सी चीज लगती है लेकिन यह साधारण सी चीज असल में बहुत अनमोल है।
असल में हम पानी के उपयोग के प्रति अपनी जिम्मेदारी नहीं समझ रहे हैं और न ही दूसरों को इसका महत्व बता रहे हैं। अगर पब्लिक क्षेत्र में कहीं नल खुला है तो उसे बंद करना हम अपनी जिम्मेदारी नहीं समझते। नहाने, कपड़े धोने, सफाई के लिए जरूरत से ज्यादा पानी इस्तेमाल करते हैं। हमारे देश में ऐसी बहुत सारी जगहें हैं, जहां लोग पानी की किल्लत से बुरी तरह परेशान हैं। पशु-पक्षी भी प्यास से अपनी दम तोड़ रहे हैं। वहीं, बहुत सारी जगहों पर एक बाल्टी पानी लेने के लिए लोगों को मीलों चलना पड़ रहा है।
दुनिया के कई हिस्सों में खासकर विकासशील देशों में जल सकंट बढ़ता जा रहा है। अगर पानी की ऐसे ही बर्बादी होती रही तो अनुमान है कि 2025 तक विश्व की आधी जनसंख्या इस जलसंकट की भयंकर मार झेलेगी। सरकार तेजी से पानी की समस्या का हल निकालने के लिए जरूरी कदम उठा रही है।
कैसे करें पानी की बचत 
-पानी की बचत घर से ही शुरू करें। आपकी थोड़ी सी समझदारी आने वाली पीढ़ी को यह अहम सौगात तोहफे में दे सकती है।
– ब्रश, शेव और बर्तन धोते समय जरूरत न होने पर नल को खुला न छोड़ें। इस तरह की बचत से हम हर मिनट 6 लीटर पानी बचा सकते हैं।
– नहाने के लिए बाथटब का इस्तेमाल से बचें। शावर और बाल्टी का इस्तेमाल करें। बाल्टी से भी पानी को बेकार न बहाएं।
– अगर किसी टैप से पानी का रिसाव हो रहा है तो उसें तुरंत ठीक करवाएं।
– रोज थोड़े-थोड़े कपड़े धोने की बजाए एक-साथ इक्ट्ठे कर, लो-पॉवर वॉशिंग मशीन में धोएं। इससे पानी और बिजली दोनों की बचत होगी।
– पेड़ पौधे लगाएं। बारिश के लिए यह काफी सहायक होते हैं। बारिश होगी तो नदी नाले भर जाएंगे।
-बागीचे में सुबह-शाम पानी दें। दोपहर पानी देना व्यर्थ हैं क्योंकि भाप के कारण वह उड़ जाता है।
-वाहनों को धोते समय पानी की काफी बर्बादी होती हैं। इसकी जगह पर आप गीले कपड़े का इस्तेमाल कर सकते या बाल्टी में पानी लेकर वाहनों को धो सकते हैं। टैप चलते रहने से कई लीटर पानी बह जाता है। जरूरत न हो तो वॉटर टेप को बंद कर दें।
– पानी का बिल दें। बिल देने पर आपको इस बात का अहसास होगा कि आप कितना पानी यूज करते हैं।
-पौधों को पाइप से नहीं बल्कि कैन की मदद से पानी दें। इसी के साथ अपने पौधों के आस-पास थोड़ी सड़ी-गली सब्जियां बिखरा दें। इससे पानी समय और पैसे की बचत होगी।
– पब्लिक एरिया या अपने आस पास भी कहीं पानी की बर्बादी हो रही हो तो तुरंत कार्रवाही करें। साथ ही अन्य लोगों को जल संरक्षण के लिए प्रेरित करें।
-कुछ तकनीकों को अपनाकर भी आप जल संरक्षित कर सकते हैं। जैसे बारिश के पानी को इक्ट्ठा कर। एक साल में 40 इंच बारिश की मदद से लगभग 1 लाख लीटर पानी एकत्रित किया जा सकता है।
Source: punjabkesari
कृपया इस महत्वपूर्ण जानकारी को अपने परिवार और मित्रों  के साथ ज्यादा से ज्यादा शेयर करें!

Loading...

Next post:

Previous post: