गर्भावस्था के दौरान केसर से होने वाले फायदे

Loading...

हमारे भारत में केसर का उपयोग लोग अपने भोजन को स्वादिष्ट बनाने के साथ साथ खुश्बूदार बनाने के लिये बहुत करते है ये अन्य मसालों से काफी महंगा होता है इसमें पाये जाने वाले औषधिय गुण बेमिसाल होने के कारण इसका उपयोग रूप सौदर्य को निखारनें में भी होता आया है। केसर में पाये जाने वाले थियामाइन और रिबोफ्लेविन के गुण मौजूद होने के कारण इसका उपयोग काफी किया जाता है यहा तक की गर्भवती स्त्रियां भी इसका सेवन अपने शरीर को स्वस्थ रखने के साथ साथ अपने बच्चे को गोरा पाने की अभिलाषा से ज्यादा ही करती है।

saffron

आज हम आपको अपने इस आर्टिकल के द्वारा केसर से होने वाले लाभ के बारे में बता रहे है। जो हर गर्भवती स्त्री के लिये लाभकारी सिद्ध होगें।

1. आंखों की समस्‍या के लिए-
अक्सर गर्भवती महिलाओं को इस दौरान काफी समस्याओं का सामना करना पड़ता है इन दिनों शारीरिक प्रक्रियाएं तेजी से बढ़ने लगती है जिससे शारीरिक परिवर्तन भी होते है इन दिनों बैचेनी नींद का पूरा ना होना जैसी परेशानियों से आपकी आखों में काफी तनाव बढ़ने लगता है जिससे आंखों में जलन होती है और वो लाल हो जाती है। ऐसे समय में इन समस्याओं से छुटकारा पाने के लिये आप केसर को दूध में डालकर इसका सेवन करें, इससे आपकी आंखों को आराम मिलेगा, इसके साथ ही चंदन के साथ इसका लेप बनाकर माथे पर लगाने से आपकी आखों को ठंडाहट मिलती है।

आंखों की समस्‍या के लिए-

2. पाचन क्रिया के लिये-
गर्भावस्‍था के समय हर महिलाओं को खाने के ना पचने की समस्या बढ़ जाती है इसका सबसे बड़ा कारण है कि इन दिनों शरीर में रक्‍त का संचार अनियमित हो जाता है। इस समस्या को दूर करने के लिये केसर का सेवन आपके लिये काफी फायदेमंद साबित होगा। इससे शरीर का विकार भी सही रहेगा और शरीर में रक्त का प्रभाव भी सही तरीके से काम करेगा।

पाचन क्रिया के लिये

3. किडनी और लीवर की समस्‍या से मुक्ति-
केसर को अगर फिल्टर कहा जाये तो कोई गलत नही होगा यह हमारे शरीर के ब्लड को अच्छी तरह से प्यूरीफाय कर रक्त को शुद्ध करता है जिससे शरीर में किडनी और लीवर जैसी समस्‍याएं नही आती।

किडनी और लीवर की समस्‍या से

4. पेट दर्द-
गर्भावस्‍था के दिनों में पेट में दर्द और ऐंठन होने से काफी समस्या आने लगती है। ऐसे समय में केसर एक दर्दनिवारक औषिधि के रूप में काम कर पेट दर्द से आराम दिलाने का काम करता है।

पेट दर्द-

5. बच्‍चे के घूमने में-
गर्भवस्था के समय जब 5 वा महीना होने पर बच्‍चा घूमने लगता है जिसका एहसास मां को होने लगता है अगर आपको ऐसा एहसास ना हो तो केसर युक्‍त दूध पीने पर यह एहसास होने लगता है पर इसका सेवन आप एक उचित मात्रा में ही करें। ज्‍यादा मात्रा में केसर का सेवन नुकसानदायक भी हो सकता है। इसके साथ ही आप अपने डॉ. से भी परामर्श ले सकते है।

बच्‍चे के घूमने में

6. ब्‍लड़ प्रेशर-
हर गर्भवती महिला अपना ब्‍लड़ प्रेशर संतुलित करने के लिये एक बार में 4 रेशे केसर को दूध के साथ पीना चाहिये इससे शरीर स्वस्थ रहेगा और आपकी मांसपेशियों भी सुचारू रूर से काम करेगीं।

Loading...

Source: khoobsurati

कृपया इस महत्वपूर्ण जानकारी को अपने परिवार और मित्रों  के साथ ज्यादा से ज्यादा शेयर करें!

Loading...

Next post:

Previous post: