बारिश से बढ़ सकते हैं डेंगू के मामले

Loading...

बारिश से बढ़ सकते हैं डेंगू के मामलेराष्ट्रीय राजधानी में देर रात बारिश तथा आगे और बारिश के पूर्वानुमान ने स्वास्थ्य अधिकारियों को चौकन्ना कर दिया है। विशेषज्ञों ने चेताया है कि डेंगू की स्थिति बदतर हो सकती है। विशेषज्ञों के मुताबिक, मानवों में डेंगू वायरस का संक्रमण करने वाले एडीस एजिप्टी मच्छर साफ पानी में लार्वा देते हैं और बारिश से छतों और अन्य जगहों पर पानी जमाव हो सकता है।

एम्स में एक वरिष्ठ डॉक्टर ने बताया, अगर रूक-रूक कर बारिश होती रही तो लोगों में डेंगू, मलेरिया और चिकनगुनिया जैसी बीमारियों का खतरा बढ़ सकता है। ऐसे वक्त जब अस्पताल पहले ही बेड की कमी से जूझ रहे हैं फिर अगर और मरीज डेंगू के इलाज के लिए आते हैं तो खतरे की स्थिति होगी। आरएमएल अस्पताल में एक और डॉक्टर ने भी अपनी चिंता जाहिर करते हुए विभिन्न जगहों पर पानी जमा नहीं हो इसके लिए निगमों से पर्याप्त कदम उठाया जाना सुनिश्चित करने का आह्वान किया है।

उन्होंने कहा, वाकई में यह बेहद चिंता का विषय है क्योंकि अस्पताल पहले ही मरीजों से भरे पड़े हैं और स्वास्थ्य केंद्रों में बेड की कमी है। लोगों को भी संवेदनशील होना होगा। इसके अलावा एमसीडी को संवेदनशील जगहों पर मच्छरो का लार्वा पनपने से रोकना चाहिए। उन्होंने कहा, नगर निकायों को मच्छरों का लार्वा पनपने के जगह की जांच करने का काम तेज करना होगा क्योंकि घरों और कार्यालयों के पास बड़ा खतरा है।

एमसीडी अधिकारियों के मुताबिक मच्छरों के लार्वा की जांच के लिए वे लगातार लोगों को घर घर जाकर जांच करने के लिए भेज रहे हैं। उन्होंने कहा, अगर कहीं भी पानी जमा होता है तो हम वहां प्रावधान के लिए कदम उठाएंगे। लोगों को भी ऐहतियात बरतना चाहिए। नोडल अधिकारी चरण सिंह ने कहा, इस मुद्दे से निपटने के लिए घर घर जाकर जांच करने का अभियान चलाया जा रहा है और सक्रिय स्वयंसेवकों की भागीदारी जरूरी है और एनजीओ को भी साथ लेने की जरूरत है। राजधानी में डेंगू से कल चार और लोगों की मौत के साथ अब तक 20 मौतें हो चुकी है। दिल्ली सरकार ने 48 निजी अस्पतालों में तकरीबन 800 अतिरिक्त बिस्तरों को मंजूरी दी है।

Loading...

कृपया इस महत्वपूर्ण जानकारी को अपने परिवार और मित्रों के साथ ज्यादा से ज्यादा शेयर करें!

Loading...

Next post:

Previous post: