पेरेंटिंग टिप्स – बच्चों की परवरिश करने के लिए सलाह

Loading...

लगभग 90 प्रतिशत पेरेंट्स के लिए परवरिश का मतलब अपने बच्चों की खाने-पीने, पहनने-ओढ़ने और रोजमर्रा की जरूरतों को पूरा करना है। उन्हें लगता है की वो अपने दायित्व से मुक्त हो गए है| लेकिन क्या वे अपने बच्चों को अच्छी आदतें और संस्कार देते हैं| सही परवरिश वो है जिनसे बच्चे आत्मनिर्भर और जिम्मेदार बन सकें। आइये जाने वो तरीके क्या है|

Parenting Tips in Hindi

बचपन से ही शुरुवात

हमेशा पेरेंट्स यही सोचते है की जब बच्चा बड़ा हो जायेगा तब उसे नियम सिखायेंगे| अभी तो बच्चा छोटा है| लेकिन यह गलत है उन्हें शुरू से ही अनुशासित बनाएं। क्योंकि जब बच्चा बड़ा होने लगता है तब उसे नियम में रहने की आदत डालना मुश्किल है| इसके अतरिक्त उन्हें प्यार से हर चीज़ समझाये| कुछ पेरेंट्स बच्चों को छोटी-छोटी बातों पर निर्देश देते है उनके ना समझने पर डाँटते भी है और मारते भी हैं। यह गलत तरीका है। आपका यह तरीका उन्हें जिद्दी और विद्रोही बना सकता है। इसलिए जितना हो सके प्यार से ही समझाने की कोशिश करे|

बच्चो पर ज्यादा दबाव ना डाले

बहुत से पेरेंट्स अपने बच्चे से बहुत सारी उम्मीद बांध लेते है| और किसी बात या उम्मीद का पूरा ना होने पर गुस्सा या दुख ज़ाहिर करते है| ऐसा करने के बजाए उन्हें सांत्वना दें| क्योकि ग़लतियाँ होने पर ही तो इन्सान सीखता है| यही बात अपने बच्चे को सिखाये, और उसे खुश रखे| उसे अच्छे से समझाने पर आपका बच्चा फिर से विजय प्राप्त करने की कोशिश करेगा|

हर जिद पूरी ना करे

कुछ लोगो को लगता है की उनके बच्चे को हर खुशी मिलना चाहिए| उन्हें लगता है की बच्चों को प्यार करने का मतलब है उनकी हर मांग पूरी करना। लेकिन यदि आप उनकी मांगी हुई हर चीज उन्हें देते हैं तो बड़ी बेवकूफी करते हैं। Good Parenting Tips के अनुसार यदि आप वाकई अपने बच्चे से प्यार करते हैं तो उसकी हर जिद पूरी ना करे, उसे वही दें जो जरूरी है।

उनके दोस्त बने

अपने बच्चे को किसी गलती के पीछे डाटने की बजाय उसने उस गलती के पीछे का कारण जाने| हो सकता है की आपने बच्चे ना बताये| इसलिए उनका बॉस बनने की बजाय उनसे गहरी दोस्ती करें। ऐसे में वो आपसे आसानी से बात कर सकेंगे|

खुशनुमा माहौल बनाइए

यदि आप चिंतित रहते है तो आप कैसे उम्मीद कर सकते हैं कि आपके बच्चे खुश हो कर जिएंगे। अपने माता पिता को चिंतित देखकर वो भी दुखी होते है| इसलिए सबसे अच्छी चीज जो आप उनके लिए कर सकते हैं वह यह कि आप एक प्यार-भरा खुशनुमा माहौल बनाएं।

बच्चो को समय दे

काम करने वाले पेरेंट्स के साथ यह समस्या होती है कि उनके पास अपने बच्चों के साथ बिताने के लिए समय नहीं होता है। ऐसे माता-पिता अपने वीकएंड्स को केवल अपने बच्चों के लिए रखें। और सामान्य दिनों में भी थोडा वक्त निकालकर उनके क्रियाकलापों पर ध्यान दें कि वे क्या करते हैं, उनके दोस्त कौन हैं आदि। यदि आपने ध्यान नहीं दिया तो वे बिगड़ भी सकते है|

ऊपर आपने जाना Parenting Tips in Hindi. यदि आप भी अपने बच्चो की अच्छी परवरिश करना चाहते है तो ऊपर दिए गए तरीको को अपनाये|

Source: hrelate

Loading...

कृपया इस महत्वपूर्ण जानकारी को अपने परिवार और मित्रों के साथ ज्यादा से ज्यादा शेयर करें!

Loading...

Next post:

Previous post: