अस्थमा को करना है नियंत्रित, तो करें इस थेरेपी का इस्तेमाल

Loading...

अस्थमा को करना है नियंत्रित, तो करें इस थेरेपी का इस्तेमाल - India TV

अधिक प्रदूषण के कारण अस्थमा के  मरीज दिन-ब-दिन बढते चले जा रहे है। इसे जड़ से खत्म करना मुमकिन नहीं। इसको नियंत्रण में रखा जा सकता है, वह भी लंबे समय तक और आसानी से। दवाइयों को सही समय पर लें और ट्रिगर्स से बचकर रहें। लेकिन वैज्ञानिकों ने एक ऐसी थेरिपी का पता लगाया है। जोकि अस्थमा में ठीक करने में काफी कारगर उपाय मान जा रहा है। इस थेरेपी से आप आसानी से अस्थमा यानी की दमा से अपना बचाव कर सकते है।

अस्थमा और इसकी उपचार पद्धति के बारे में विभिन्न भ्रांतियों को दूर करते हुए विशेषज्ञों का कहना है कि इंहेलेशन थेरेपी इसके उपचार का सबसे कारकर और प्रभावी तरीका है। राष्ट्रीय राजधानी स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के पुल्मोलोजी व निद्रा विकार विभाग के प्रमुख डॉ. रनदीप गुलेरिया के मुताबिक, “इंहेल्ड कोरटिकोस्टेरॉयड थेरेपी (आईसीटी) अस्थमा को नियंत्रित करने में सबसे कारगर इलाज है।

आईसीटी में दवा की बहुत कम डोज सीधे सूजन भरी सांस की नलियों में पहुंचती है। इसके साइड इफैक्ट्स भी सीमित होते हैं। ओरल दवा का डोज आईसीटी के मुकाबले कई गुना ज्यादा होता है। ज्यादा दवा का डोज शरीर के अन्य अंगों में भी जाता है, जिसे दवा की जरूरत नहीं होती है। इसके साइड इफैक्ट्स की आशंका भी अधिक होती है।”

इस साल 3 मई तो विश्व अस्थमा दिवस पर ऐसे मरीजों को सामने लाया जाएगा, जो अस्थमा व इससे संबद्ध भ्रांतियों के खिलाफ विजेता बनकर उभरे हैं।

अस्थमा को नियंत्रित करने में सबसे बड़ी चुनौती दवा का अनियमित सेवन है। लोग अक्सर लक्षण नजर न आने पर कुछ समय बाद ही दवा छोड़ देते हैं। लेकिन लक्षण न दिखने का मतलब अस्थमा मुक्त होना नहीं है। इसके गंभीर परिणाम सामने आते हैं और इसलिए दवा छोड़ने से पहले चिकित्सक का परामर्श आवश्यक होता है।

डॉ. गुलेरिया के अनुसार, “अस्थमा दीघर्कालिक बीमारी है, जिसे लंबे समय तक इलाज की जरूरत होती है। कई रोगी जब खुद को बेहतर महसूस करते हैं तो इंहेलर लेना छोड़ देते हैं। यह खतरनाक हो सकता है, क्योंकि आप उस इलाज को बीच में छोड़ रहे हैं, जिससे आप फिट और स्वस्थ रहते हैं। रोगियों को इंहेलर छोड़ने से पहले अपने चिकित्सक से परामर्श लेना चाहिए। अपनी मर्जी से इंहेलर छोड़ना जोखिमभरा हो सकता है।”

सफदरजंग अस्पताल के सीनियर चेस्ट फिजिशयन डॉ. एम. के. सेन कहते हैं, “मैं रोजाना 10-15 रोगियों से मिलता हूं, जिन्हें न सिर्फ बीमारी बल्कि दवाई को जारी रखने की सलाह दी जाती है। अक्सर देखा गया है कि कुछ समय बाद लोग दवा लेने में आनाकानी करने लगते हैं। ऐसे लोगों की दर करीब 70 फीसदी है।”

रोगियों द्वारा इंहेलर लेने से आनाकानी करने की वजह के बारे में पूछे जाने पर डॉ. सेन ने कहा, “इसके कई कारण हैं। इनमें दवा की कीमत, साइड इफैक्ट्स, इसे लेकर भ्रांतियां और सामाजिक अवधारणाएं शामिल हैं।”

Loading...

कृपया इस महत्वपूर्ण जानकारी को अपने परिवार और मित्रों के साथ ज्यादा से ज्यादा शेयर करें!

Loading...

Next post:

Previous post: