पैरों की नसों की सुजन रोकने के लिए सर्वोत्तम प्राकृतिक सुझाव

Loading...
%image_alt%

पैरों की नसों में खून का संचलन कम होने से सुजन हो सकती है|यह सुजन आसानी से न दिखे पर यह बिगड़ते स्वास्थय के लक्षण होते हैं| यहाँ पर ऐसे सुझाव दिए गए हैं जो आपके पैरों में खून के संचलन को बनाए रखते हैं|

  • अपना वजन नियंत्रण में रखें| ज्यादा वजन होने से पैरों पर अतिरिक्त भार गिरता है जो नसों में सुजन दिला सकता है| इसलिए वजन को नियंत्रित रखकर पैरों के नसों की सुजन नहीं होगी और वजन नियंत्रण में रखकर स्वास्थ्य की और समस्याएँ भी दूर रहती हैं|
  • पैरों पर सही प्रमाण में चरबी होनी चाहिए| ज्यादा चरबी होने पर स्टॉकिंग पहेनकर चरबी को सही तरह से सहारा दें|
  • ज्यादा समय खड़े न रहें| ऐसा करने से पैरों की नसों पर ज्यादा तनाव गिरता है जिससे नसों में सुजन हो सकती है|
  • महिलाओं ने गर्भनिरोधक गोलियों का सेवन कम करना चाहिए| ज्यादा मात्रा में एस्ट्रोजन लेने से पैरों में खून के संचलन में परेशानी हो सकती है जो आगे जाकर पैरों के नसों में सुजन हो सकती है|
  • छोटे हील के या बिना हील के जूते पहने जो आपके पैरों को जकड़कर न रखें| ऐसे कपडे न पहने जिसके कारण कमर में और पैरों में खून के संचलन को रोकथाम होती हो|
  • कसरत करने से, साइकिल चलाने से, तैराकी और चलने से पैरों में खून का संचलन सुधरता है|
  • धुम्रपान से दूर रहने से पैरों के साथ ही पुरे शरीर में खून का संचलन बढ़ता है| धुम्रपान न करने से रक्तचाप नियंत्रण में रहता है जिससे पैरों की नसों में सुजन नहीं होती है|
  • अपने पैरों को तानकर विश्रामित करें| इसलिए सीधे खड़े रहकर अपना १ पैर छाती के ऊपर तक उठायें| यही दुसरे पैर से भी करें|
  • पैरों को एक दुसरे पे रखकर बैठने से भी नसों में सुजन हो सकती है|
  • अगर ऊपर दिए गए उपायों से भी पैरों में सुजन दिखे तो सही दवाइयां लें| अगर यह उपाय आप ज्यादा समय तक ना कर सकें और पैरों की नसों में सुजन दिखे तो डॉक्टर से जांच करा लें| डॉक्टर द्वारा दी गयी सभी दवाएं सही मात्रा में लें|

Source: hinditips

Loading...

कृपया इस महत्वपूर्ण जानकारी को अपने परिवार और मित्रों के साथ ज्यादा से ज्यादा शेयर करें!

Loading...

Next post:

Previous post: