जानिए निकट दृष्टि दोष (मायोपिया) के कारण और उपचार

Loading...

आँखें हमारे शरीर का एक महत्वपूर्ण अंग है, इसलिए उनका ख्याल रखना हमारी जिम्मेदारी है| उम्र के साथ आँखों की मांसपेशियां कठोर हो जाती है और अपना लचीलापन खो देती है| जिस वजह से दृष्टि दोष होने लगता है|

आज के समय में दृष्टि दोष एक आम समस्या है| आँखों पर नंबर का चश्मा सामान्य बात हो गयी है और यह समस्या बहुत तेज़ी से बढ़ रही है||यदि किसी व्यक्ति को कम उम्र में चश्मा लग जाता है तो नंबर कुछ ही महीनों में बढ़ता जाता है| चश्मा लगाने से दृष्टि दोष धक जाता है मगर दूर नहीं होता| जब हम नेत्र चिकित्सकों से इसका कारण पूछते है तो वो यही प्रतिक्रिया देते है कि आपके जीन्स कमजोर है या पढ़ाई की वजह से यह समस्या उत्पन्न हो रही है।, लेकिन सभी के साथ यही कारण रहा हो यह जरूरी तो नहीं|

दृष्टि दोष दो तरह का होता है एक हे निकट दृष्टि दोष (मायोपिया) और दूसरा हे दूर दृस्टि दोष (हाइपरमेट्रोपिया)| आज हम आपको निकट दृष्टि दोष की बहुमूल्य जानकारी दे रहे है|

Myopia in Hindi में निकट कि वस्तुएं साफ़ तथा दूर की चीज़े धुंधली नज़र आती है| यह दोष उत्पन्न होने पर प्रकाश की समानांतर किरणें आँखों द्वारा अपवर्तन के बाद रेटिना के पहले ही प्रतिबिम्ब बना देता है इससे दूर की वस्तुओं का प्रतिबिम्ब स्पष्ट बनकर चीज़े धुंधली दिखाई देती है

Myopia Causes in Hindi: निकट दृष्टि दोष के कारण

Myopia in Hindi

निकट दृष्टि दोष हमारी सामान्य शिकायतों में से एक है लेकिन क्या हमने इसके कारण और उपचार को जानने की कोशिश की है| आइये जानते हैMyopia Causes in Hindi –

  1. विटामिन की कमी से भी यह दोष होता है|
  2. सुबह उठते ही गरम चाय पीने से भी दृष्टि कमजोर हो जाती है|
  3. अधिक समय तक टेलीविजन देखने या कंप्यूटर पर कार्य करने से भी दृष्टि दोष होता है|
  4. बिना छिलके वाली दाल तथा सोकर के आटे का कम इस्तेमाल करना भी इसका कारण हो सकता है|
  5. रात के समय देर तक जागना तथा सुबह के समय देर तक सोना भी दृष्टि दोष का कारण हो सकता है|
  6. किसी तरह की चोट या अन्य रोग जैसे मधुमेह, उच्च रक्तचाप, अधिक तनाव तथा कब्ज की वजह से भी दृष्टि दोष होता है|
  7. अप्राकृतिक या असंतुलित, अम्लीय उत्तेजक, ज्यादा मसालेदार, खटाई तथा तला – भुना पदार्थों का अधिक सेवन करने से दृष्टि दोष हो सकता है|
  8. अधिक बारीक काम करने जिनसे आंखों पर ज्यादा दबाव पड़ता हो या अधिक मेहनत करना पड़ती हो, ऐसे कामों से भी दृष्टि हीनता आती है|
  9. अगर माता पिता में से किसी एक को दृष्टि हीनता की समस्या हो तो ऐसी परिस्थिति में बच्चों में इस बीमारी की आशंका बढ़ जाती है|
  10. चिकित्सकों के अनुसार, बचपन में देखने की क्षमता का विकास होता है और किशोर अवस्था में आँखों की लम्बाई बढ़ती है लेकिन निकट दोष की वजह से यह कुछ जयादा ही बढ़ जाती है| ऐसी स्थिति में प्रकाश रेटिना पर केंद्रित नहीं हो पता है| इसी वजह से वस्तुए धुंधली दिखाई देती है|

Eye Exercise for Myopia: आँखों के लिए व्यायाम

आंखों को स्वस्थ रखने तथा निकट दृष्टि दोष ठीक करने के लिए व्यायाम और योग दोनों ही बहुत महत्पूर्ण है| अगर आप नियमित व्यायाम या योग करते है तो आपका यह दोष दूर भी हो सकता है आइये जानते Eye Exercise for Myopia

करतल विश्राम:

अपनी आँखों को धीरे-धीरे बंद करे तथा हाथो की हथेलियों को प्यालीनुमा बनाकर गाल की हड्डियों पर इस प्रकार रखे कि हथेलिया आँखों को न छु पाए| हथेलियों को आँखों से ढकते समय यह ध्यान रखें कि आँखों पर कोई दबाव ना पढ़े ओर ना ही प्रकाश अंदर आ पाए| हाथ, आंखे और मस्तिष्क तनाव मुक्त रहे| तनाव मुक्त रहने के लिए, आँखों के सामने अंधेरा सा महसूस करें| कुछ समय तक इस अवस्था में रहकर अपना हाथ हटाये और आँखे मिचमिचाए| ऐसा करने से आप आँखों में ताजगी अनुभव करेंगे| ऐसा करने से आंखों की मांसपेशियों को आराम मिलेगा|

पुतली घुमाने की क्रियाएं

यह प्रक्रिया सभी तरह के दृष्टि रोगो के लिए लाभदायक है| अपने सिर और गर्दन को सीधा रखकर सामने की तरफ देखें| इसके बाद पहले दाहिने तरफ फिर बाईं तरफ आँखों को घुमाए, कुछ समय तक यह क्रिया करें, उसके बाद आँखों को ऊपर – नीचे घुमाएं इस प्रकार क्रमशः छह बार ऊपर नीचे देखें|

योग

आँखो को आराम केवल पर्याप्त नींद से नहीं मिल पाता है| आँखों में कमजोरी की वजह से स्मृति दोष और चिडचिडापन की समस्या आम हो जाती है| जिसके लिए आंखों का योगा बहुत जरूरी है। प्रायाणाम, शवासन और सर्वांगासन प्रतिदिन करने से आँखों के दोष दूर होते है और आंखों की दृष्टि बनी रहती है|

Source: hrelate

Loading...

कृपया इस महत्वपूर्ण जानकारी को अपने परिवार और मित्रों  के साथ ज्यादा से ज्यादा शेयर करें!

Loading...

Next post:

Previous post: