भारत है कुंग-फू शैली का जनक – टाइगर श्रॉफ

Loading...

तीन सप्ताह बाद प्रदर्शित होने जा रही बागी के ट्रेलर को जबरदस्त रेस्पांस मिला है। इस फिल्म टाइगर श्रॉफ ने कुंग-फू कला का प्रयोग किया है। बागी के ‘किक’ सीन दर्शकों को खासे पसन्द आ रहे हैं। टाइगर श्रॉफ     इन दिनों अपनी इस फिल्म के प्रमोशन में व्यस्त हैं। उनका कहना है कि कुंग-फू कला विश्व को भारत की ही देन है। मार्शल आर्ट की इस विधा को भारतीय बौद्ध संत बोधिधर्मा ने आविष्कृत किया।
लोगों के बीच में यह भ्रांति है कि कुंग-फू का जनक चीन है, क्योंकि वहां के नागरिक इसे अधिक सीखते हैं और उन्होंने इसे आत्मरक्षा के लिए अपनाया है। हालांकि, इससे यह साबित नहीं होता कि यह विधा चीन की देन है।

Kung-fu-style-of-india

संत बोधिधर्मा को कुंग-फू का पिता कहा जाता है। चीन के शाओलिन में उनके नाम पर कई मंदिर बने हैं। इसलिए कयास लगाए जाते रहे हैं कि छठी सदी के दौरान संत बोधिधर्मा चीन गए थे।

इस सदी के दौरान चीन का कोई अस्तित्व नहीं था, संत तो हिंदकुश क्षेत्र के हिमालय पर्वत के उस पार के लोगों को बौद्ध धर्म का ज्ञान देने गए थे, लेकिन वह वहीं बस गए और साथ में अपने नायाब आविष्कार का ज्ञान वहां के लोगों में बांटा। यही कारण है कि उस क्षेत्र में इस विधा का पूरा विकास हुआ।

कुंग-फू, मार्शल आर्ट की सबसे पुरानी विधा है, जिसमें बिना किसी हथियार के युद्ध किया जाता है। यह बात निश्चित है कि बोधिधर्मा जहां भी गए अपने साथ मार्शल ऑर्ट का यह नायाब रूप अपने साथ लेकर गए।

शाओलिन में बने नए मंदिर में बोधिधर्मा रह गए और अन्य बौद्ध संतों के हाथों इस कला को सौंप दिया, जिसे हम आज कुंग-फू के नाम से जानते हैं। बोधिधर्मा इस कला के आविष्कारक और महान लड़ाका थे। समय के साथ उनकी इस विधा का विकास पूरे विश्व में हुआ।

Source: khaskhabar

Loading...

कृपया इस महत्वपूर्ण जानकारी को अपने परिवार और मित्रों  के साथ ज्यादा से ज्यादा शेयर करें!

Loading...

Next post:

Previous post: