जानिए घी खाने का सही समय

Loading...

जानिए घी खाने का सही समय

1. दोष के अनुसार खाएं इसे

पाचन की प्रक्रिया के दौरान आखिर में वात दोष का प्रभाव तेज हो जाता है। घी, वात और पित्त दोष को बैलेंस करने का काम करती है। इसलिए, यह समझना जरुरी है कि घी को भोजन के पहले या भोजन के दौरान ही खाना सबसे अच्छा होता है।
2. घी खाने से पेट की अग्नि बढ़ती है
भारी होने के अलावा, घी पाचन शक्ति यानी अग्नि को भी बढाती है। अगर आप घी को खाने के दौरान खाएंगे तो आप चाहे जितना भी भारी भोजन खाएं, वह आराम से पच जाएगा।
3. पेट का बचाव करती है
इसे खाने से पेट के अंदर की लाइनिंग सुरक्षित रहती है। इसलिये अगर आप घी को खाने के पहले ही खाते हैं तो, वह मसालेदार और तीखे भोजन का असर कम कर देगी।
4. गरम खाने के साथ
अगर आप का खाना बेहद गरम है, उदाहरण के तौर पर जैसे, रोटी और सब्जी तो, आप घी को साथ में या फिर खाना खाने के बाद भी खा सकते हैं।
5. ठंडे भोजन के साथ
अगर आप खाना खाने के बाद फ्रिज में रखी आइसक्रीम या खीर खाने वाले हैं तो, घी को भोजन के शुरुआत में ही खा कर खतम कर दें क्योंकि घी को गरम चीज़ के साथ ही खाना ठीक रहता है। नहीं तो आपका खाना हजम नहीं होगा।
6. घी हजम होने के संकेत
* शरीर में हल्कापन बना रहेगा
* इंद्रियों में अच्छी शक्ति आएगी
* सुस्ती का अभाव
7. घी हजम ना होने के संकेत
* भारीपन
* पेट फूलना
* थकान
* मुंह में सूखापन
* खूब भूख लगना
8. घी हजम ना हो तो करें ये उपचार
अगर आपको लगता है कि घी हजम नहीं हुई है तो, फैट लेस छाछ यानी मठ्ठा पियें। उसमें एक चुटकी अदरक पावडर या काली मिर्च पावडर मिक्स करें। इससे आपका घी हजम हो जाएगा।
9. घी खाने का उत्तम समय कौन सा है?
इसलिये ब्राह्मण भोजन के दौरान सबसे पहले घी परोसा जाता है और भोजन के बाद में मठ्ठा, जिससे खाना आराम से हजम हो जाता है।

Loading...

कृपया इस महत्वपूर्ण जानकारी को अपने परिवार और मित्रों  के साथ ज्यादा से ज्यादा शेयर करें!

Loading...

Next post:

Previous post: