किडनी को कैसे रखें हेल्दी

Loading...

हर व्यक्ति को साल में कम से कम एक बार अपनी किडनी की सेहत पर ध्यान देना चाहिए। खास तौर पर 60 साल से बड़ी उम्र के लोगों में या मोटापे, डायबिटीज, उच्च रक्तचाप और परिवार में किडनी फेल होने की वंशानुगत बीमारी होने पर नियमित जांच जरूरी है। इसलिए अपनी किडनी की निरंतर जांच करवाएं ताकि आप किडनी की बीमारियों से दूर रह सकें।हमारे शरीर में किडनी यानि गुर्दे हमारे शरीर को अंदर से साफ करते हैं और हमारे खून को फिल्टर करने का काम करते हैँ। किडनी के ठीक नहीं होने का मतलब है कि हम कई बीमारियों को बुला रहे हैं। यहां हम किडनी को ठीक रखने के लिए 10 ऐसे घरेलू उपाय बता रहे हैं जिन्हें अपनाकर आप किडनी की बीमारियों से दूर रह सकते हैं। हमारे शरीर में किडनी यानि गुर्दे हमारे शरीर को अंदर से साफ करते हैं और हमारे खून को फिल्टर करने का काम करते हैँ। किडनी के ठीक नहीं होने का मतलब है कि हम कई बीमारियों को बुला रहे हैं। यहां हम किडनी को ठीक रखने के लिए 10 ऐसे घरेलू उपाय बता रहे हैं जिन्हें अपनाकर आप किडनी की बीमारियों से दूर रह सकते हैं।<b>ब्लड प्रेशर पर नियंत्रण:</b> </p><p>ब्लड प्रेशर के नियंत्रण न रहना भी कई बिमारियों को न्यौता देता है। उस तरह उच्च ब्लड प्रेशर किडनी के फेल होने का दूसरा सबसे आम कारण है। हाई ब्लड प्रेशर से भी रक्त नलिकाओं की दीवार को नुकसान पहुंचता है। इसलिए आप को इस बात का खास ध्यान रखना चाहिए कि आपका ब्लड प्रेशर 140/90 एमएमएचजी से ज्यादा नहीं होना चाहिए। </p><figure class=

ब्लड प्रेशर के नियंत्रण न रहना भी कई बिमारियों को न्यौता देता है। उस तरह उच्च ब्लड प्रेशर किडनी के फेल होने का दूसरा सबसे आम कारण है। हाई ब्लड प्रेशर से भी रक्त नलिकाओं की दीवार को नुकसान पहुंचता है। इसलिए आप को इस बात का खास ध्यान रखना चाहिए कि आपका ब्लड प्रेशर 140/90 एमएमएचजी से ज्यादा नहीं होना चाहिए।

<b>एक्टिव रहें:</b> </p><p>कहा जाता है कि व्यक्ति के एक्टिव रहने से उसके कई रोग मिट जाते हैं। क्योंकि जब आप रोजमर्रा के जीवन में सक्रिय रहते हैं तो ब्लड प्रेशर नियंत्रित रहता है. जिससे कई बीमारियां आपसे दूर रहती है। आप डायबिटीज जैसी बीमारियों की चपेट में आने से भी बचे रहते हैं। करीब 30 फीसदी मामलों में किडनी के फेल होने का कारण डायबिटीज पाया गया है। इसलिए आप एक्टिव रहें ताकि आप किडनी की बीमारियों से दूर रह सकें। </p><p> एक्टिव रहें:

कहा जाता है कि व्यक्ति के एक्टिव रहने से उसके कई रोग मिट जाते हैं। क्योंकि जब आप रोजमर्रा के जीवन में सक्रिय रहते हैं तो ब्लड प्रेशर नियंत्रित रहता है. जिससे कई बीमारियां आपसे दूर रहती है। आप डायबिटीज जैसी बीमारियों की चपेट में आने से भी बचे रहते हैं। करीब 30 फीसदी मामलों में किडनी के फेल होने का कारण डायबिटीज पाया गया है। इसलिए आप एक्टिव रहें ताकि आप किडनी की बीमारियों से दूर रह सकें।

<b>तरल चीजें ज्यादा लें:</b> </p><p>शरीर से नुकसानदायक चीजें बाहर निकालने के लिए किडनी को तरल माध्यम की जरूरत होती है। दिन में कम से कम डेढ़ से दो लीटर पानी पीना जरूरी है और शारीरिक रूप से ज्यादा सक्रिय रहने वालों को इससे भी ज्यादा पानी पीना चाहिए। साथ ही की अन्य तरल चीजें जैसे ज्यूस आदि का सेवन करें। अगर कोई डायलिसिस करवाते हैं तो उन्हें कम पानी की बहुत ज्यादा जरूरत होती है। </p><p> तरल चीजें ज्यादा लें:

शरीर से नुकसानदायक चीजें बाहर निकालने के लिए किडनी को तरल माध्यम की जरूरत होती है। दिन में कम से कम डेढ़ से दो लीटर पानी पीना जरूरी है और शारीरिक रूप से ज्यादा सक्रिय रहने वालों को इससे भी ज्यादा पानी पीना चाहिए। साथ ही की अन्य तरल चीजें जैसे ज्यूस आदि का सेवन करें। अगर कोई डायलिसिस करवाते हैं तो उन्हें कम पानी की बहुत ज्यादा जरूरत होती है।

<b>नियंत्रित आहार:</b> </p><p>नियंत्रित आहार से खराब किडनी को भी ठीक किया जा सकता है। आपको मसालेदार खाने का हमेशा के लिए त्याग करना होगा। साथ ही नियमित नींबू, आलू का रस और हमेशा शुद्ध जल का अधिक से अधिक सेवन करें, जिससे कि आपकी किडनी को कोई नुकसान नहीं हो। </p><p> नियंत्रित आहार:

नियंत्रित आहार से खराब किडनी को भी ठीक किया जा सकता है। आपको मसालेदार खाने का हमेशा के लिए त्याग करना होगा। साथ ही नियमित नींबू, आलू का रस और हमेशा शुद्ध जल का अधिक से अधिक सेवन करें, जिससे कि आपकी किडनी को कोई नुकसान नहीं हो।

<b>ब्लड शुगर पर नियंत्रण रखें:</b> </p><p>खून में ग्लूकोज का स्तर बढ़ जाने से डायबिटीज जैसी बीमारियों का खतरा तो बढ़ता ही है, इससे किडनी की आंतरिक नलिकाएं भी नष्ट हो सकती हैं। अगर इन नलिकाओं को नुकसान पहुंच जाता है तो वो रक्त को ठीक से फिल्टर नहीं कर पातीं। इसलिए किडनी के लिए ब्लड शुगर का स्तर नियंत्रण जरूरी है। </p><p> ब्लड शुगर पर नियंत्रण रखें:

खून में ग्लूकोज का स्तर बढ़ जाने से डायबिटीज जैसी बीमारियों का खतरा तो बढ़ता ही है, इससे किडनी की आंतरिक नलिकाएं भी नष्ट हो सकती हैं। अगर इन नलिकाओं को नुकसान पहुंच जाता है तो वो रक्त को ठीक से फिल्टर नहीं कर पातीं। इसलिए किडनी के लिए ब्लड शुगर का स्तर नियंत्रण जरूरी है।

<b>नशे से दूर रहें:</b> </p><p>शरीर में रक्त वाहिकाओं को नष्ट करने में धूम्रपान का बड़ा हाथ होता है। इसकी वजह से खून ठीक तरह से फिल्टर नहीं हो पाता है। अगर आप सिगरेट या कोई अन्य तरह का नशा करते हैं तो इसे छोड़ दें। इससे आपकी किडनी ही नहीं बल्कि शरीर के कई अन्य अंग भी बीमारियों से दूर रहेंगे। </p><p> नशे से दूर रहें:

शरीर में रक्त वाहिकाओं को नष्ट करने में धूम्रपान का बड़ा हाथ होता है। इसकी वजह से खून ठीक तरह से फिल्टर नहीं हो पाता है। अगर आप सिगरेट या कोई अन्य तरह का नशा करते हैं तो इसे छोड़ दें। इससे आपकी किडनी ही नहीं बल्कि शरीर के कई अन्य अंग भी बीमारियों से दूर रहेंगे।

<b>मुनक्के का सेवन करें:</b> </p><p>अगर आपको किडनी को लेकर कोई बीमारी या शिकायत है तो आप रात को सोते वक्त कुछ मुनक्कों को पानी में भिगोकर रखें। फिर सुबह के समय में मुनक्कों को पानी से निकाल कर, इस पानी को पीना पीएं। ऐसा कुछ दिनों तक लगातार करने से गुर्दे के रोग जल्दी ही ठीक हो जाते हैं। </p><p> मुनक्के का सेवन करें:

अगर आपको किडनी को लेकर कोई बीमारी या शिकायत है तो आप रात को सोते वक्त कुछ मुनक्कों को पानी में भिगोकर रखें। फिर सुबह के समय में मुनक्कों को पानी से निकाल कर, इस पानी को पीना पीएं। ऐसा कुछ दिनों तक लगातार करने से गुर्दे के रोग जल्दी ही ठीक हो जाते हैं।

<b>पेनकिलर दवाईयों से दूर रहें:</b> </p><p>अगर लंबे समय तक दर्द रोधी दवाईयां ली जाएं तो इससे भी किडनी पर बुरा असर पड़ता है। अगर किसी के गुर्दे पहले से ही थोड़े कमजोर हों, तो उन्हें पेनकिलर दवाओं से काफी खतरा हो सकता है। इसलिए किडनी की बीमारियों से दूर रहने के लिए पेनकिलर से दूर रहें और डॉक्टरों की सलाह से ही पेनकिलर लें। </p><p> पेनकिलर दवाईयों से दूर रहें:

अगर लंबे समय तक दर्द रोधी दवाईयां ली जाएं तो इससे भी किडनी पर बुरा असर पड़ता है। अगर किसी के गुर्दे पहले से ही थोड़े कमजोर हों, तो उन्हें पेनकिलर दवाओं से काफी खतरा हो सकता है। इसलिए किडनी की बीमारियों से दूर रहने के लिए पेनकिलर से दूर रहें और डॉक्टरों की सलाह से ही पेनकिलर लें।

<b>स्वस्थ आहार:</b> </p><p>वैसे तो सही खानपान कई बीमारियों का इलाज है। फल, सब्जियां और फाइबर वाली चीजें खाने से वजन के साथ किडनी की सेहत भी अच्छी रहती है। अगर किडनी की बात करें तो खाने में नमक की मात्रा कम से कम रखनी चाहिए। साथ ही फल, नींबू, आंवला, अजवाइन आदि का अधिक से अधिक सेवन करना चाहिए। </p><p> स्वस्थ आहार:

वैसे तो सही खानपान कई बीमारियों का इलाज है। फल, सब्जियां और फाइबर वाली चीजें खाने से वजन के साथ किडनी की सेहत भी अच्छी रहती है। अगर किडनी की बात करें तो खाने में नमक की मात्रा कम से कम रखनी चाहिए। साथ ही फल, नींबू, आंवला, अजवाइन आदि का अधिक से अधिक सेवन करना चाहिए।

Source: ibnlive

Loading...

कृपया इस महत्वपूर्ण जानकारी को अपने परिवार और मित्रों  के साथ ज्यादा से ज्यादा शेयर करें!

Loading...

Next post:

Previous post: