इन घरेलू उपायों को अपनाकर करें खसरे की बीमारी का इलाज

Loading...

खसरा एक एेसी बीमारी है जो सर्दी और वसंत ऋतु में ज्यादा प्रभावी हो जाती है। यह सांस से जुड़ी एक वायरल बीमारी है। यह बीमारी रोग संक्रमित व्यक्ति के छींकने से फैलती है। ज्यातर यह बीमारी छोटे बच्चो को होती हैं। इसलिए बच्चे के एक साल हो जाने पर खसरे का टीका जरूर लगवाना चाहिएं।

इल बीमारी के लक्षण अापको 14 दिनों में दिखने लगते हैं। जब यह बीमारी होती है तो चाहरे अौर गर्दन पर लाल रंग के चकत्ते, आंखों से पानी, कफ, सर्दी और भूंख का खत्म होने जैसे लक्षण होते हैं। इसलिए इसका इलाज समय पर ही करवा लेना चाहिए।आज हम आपको इस बीमारी से निजात पाने के लिए कुछ घरेलू उपाय बिताएगें। तो आइए जानते हैं…

–  मुलेठी एक प्राचीन और उपयोगी औषधि है। मुलेठी के कई स्वास्थ्य लाभ होते हैं। खसरे की बीमारी का इलाज करने के लिए अाप घर पर रोजाना अाधा चम्मच मुलेठी की जड़ों का पावडर बना कर शहद के साथ खाएं।

आयुर्वेद में इमली के बीजों के भी औषधीय उपयोग हैं। हर रोज इमली के बीज का पावडर अौर हल्दी को बराबर मात्रा में 350 ग्राम से 425 ग्राम तक खाने से अाप खसरे की बीमारी को दूर कर सकते हैं।

नीम के पत्ते के गुण, लाख दुखों की एक दवा है। नीम में इतने गुण हैं कि ये कई तरह के रोगों के इलाज में काम आता है। इसमें एंटीवायरल और एंटीसेप्‍टिक गुण होते हैं, जिसे नहाने वाले गरम पानी में मिला कर नहाने से खुजली और रैश ठीक हो जाते हैं।

खाली पेट लहसुन खाने के कई स्वास्थ्यवर्धक फायदे होते हैं। लेकिन इसके बारे में पता कुछ ही लोगों को होता है। लहसुन एक चमत्कार चीज है। अगर आपको खसरे की बीमारी है तोउसे दूर करने के लिए लहसुन को शहद के साथ पीस कर रोजाना खाएं।

विटामिन सी से भरपूर नीबू स्फूर्तिदायक और रोग निवारक फल है। इसका रंग पीला या हरा तथा स्वाद खट्टा होता है। नींबू के रस को पानी के साथ मिला कर पीने से मीजल्स ठीक हो जाता है।

खसरे की बीमारी का इलाज करने के लिए अाप घर पर हल्‍दी की जड़ का पावडर बना लें अौर इसमें शहद को मिक्स करें। बाद में करेले की पत्ती का जूस निचोड़ कर डालें और थोड़ा-थोड़ा चाटतो रहें।

नारियल का हर हिस्सा किसी न किसी तरह से फायदेमंद ही होता है। लेकिन नारियल के पानी मे कुछ ऐसे तत्व होते हैं, जिनकी शरीर को सबसे ज्यादा जरूरत होती है। जैसे कि इसे पीने से शरीर में जमा हुए जहरीले तत्व बाहर निकल जाते हैं और उसकी मलाई से मीजल्स तुरंत ठीक हो जाता है।

 – आंवला प्राकृति का दिया हुआ ऐसा तोहफा है जिससे हमारे शरीर में पनप रही कई सारी बीमारियों का नाश हो सकता है। अाप इसे पानी में मिला कर अपने शरीर को धो सकते हैं। अगर अापको खसरे की बीमारी हैं तो आमले का पावडर को पानी के साथ लें।

बैंगन एक पौष्टिक सब्जी है। इसे खाने से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है।  खसरे की बीमारी को दूर करने के लिए इसे 3-4 दिनों कर हर रोज अाधा ग्राम बीज जरूर खाएं।

संतरे में मौजूद फाइबर और अम्लीय स्वाद पाचन तंत्र पर एल्काइन प्रभाव डालता है। इससे पाचक रस के स्रव को बढ़ावा मिलता है और कब्ज, पेट में अकड़न, गैस, अपच जैसी समस्याओं से राहत मिलती है।

अगर अाप को मीजल्स के समय बुखार हो जाता है तो हर रोज सुबह बटर में शक्कर मिला कर दो चम्मच चाटें।

Source: punjabkesari

Loading...

कृपया इस महत्वपूर्ण जानकारी को अपने परिवार और मित्रों  के साथ ज्यादा से ज्यादा शेयर करें!

Loading...

Next post:

Previous post: