फेफड़ों को स्वस्थ कैसे रखें?

Loading...

%image_alt%

पर्यावरण के हानिकारक पदार्थों से बचने के लिए नाक एक अनिवार्य सरंक्षक का काम करता है| फेफड़े इस कड़ी में दूसरी पंक्ति के रूप में काम करते हैं। फेफड़ों का स्वास्थ्य किसी भी तरह की बीमारियों से मुक्त रखना बहुत महत्वपूर्ण है। फेफड़ों का स्वास्थ अच्छा रखने के लिए सात तरीके दिए गए हैं|

फेफड़े आपको साँस लेने मेंमदद करते हैं| अस्वास्थ्यकर भोजन की आदत और आज की जीवनशैली लोगों को कई मायनों में फेफड़ों को नुकसान पहुंचाती हैं। आपके शरीर और त्वचा के अन्य भागों की तरह, फेफड़ों की भी अच्छी तरह से देखभाल की जरूरत है। फेफड़ों और नसों के माध्यम से ऑक्सीजन की हमारे शरीर के हर हिस्से को आपूर्ति होती है। अगर फेफड़े अच्छी तरह से काम नहीं करें तो स्वास्थ्य की समस्याओं को जन्म देते हैं| हृदय रोधगलन, सांस की समस्या जैसे रोग हो सकते हैं।

शोधकर्ताओं को यह पता चला है की साधारण रोजमर्रा की सांस लेने से शरीर के विभिन्न भागों में ऑक्सीजन का प्रवाह प्राप्त करने के लिए पर्याप्त नहीं होता है। शरीर से विषाक्त पदार्थों को पूरी तरह से दूर करने के लिए फेफड़ों को हर दिन लगातार २० मिनट तक तीव्र आंदोलन की आवश्यकता होती है। इसके अलावा पर्यावरण का प्रदूषण, धूल और धूम्रपान आपके शरीर के भीतर अतिरिक्त विषाक्त पदार्थों को पैदा कर सकता है। आप आसानी से हर रोज सुबह तेज चलने की कसरत से अपने शरीर से विषाक्त पदार्थों को हटा सकते हैं।

स्वस्थ फेफड़ों के लिए सुझाव

  • चाय पिने से फेफड़ों के मेलानोमा से सुरक्षा होती है|
  • तंबाकू या किसी भी मादक पदार्थों का सेवन न करें| धुम्रपान से फेफड़ों का मेलानोमा तैयार होता है|
  • धुम्रपान न करें| परिवार में और कोई धुम्रपान करता हो उनको भी ऐसा करने से रोकें|
  • कसरत करने से फेफड़ों की कार्य शक्ति बढती है| तेज चलना, दौड़ना, सीडियाँ चढ़ना,तैराकी करना ऐसी कसरतों से फेफड़ों का स्वास्थय बढ़ता है|
  • पोषक मूल्यों से भरपूर आहार लें| अनाज,तंतु से भरे पदार्थ,मछली,मुर्गी ऐसे पदार्थों से फेफड़ें स्वस्थ रहते हैं| ज्यादा पानी पिने से शरीर से विषाक्त पदार्थ निकल जाते हैं|
  • ऐसे पदार्थ न खाएं जिनमे अतिरिक्त चरबी और नमक हो|
  • प्रदुषण युक्त वातावरण में काम करने से बचें|

फेफड़ों को स्वस्थ रखने के तरीके

गहरी सांस लेना

नियमित रूप से गहरी सांस लेने से फेफड़ों की क्षमता बढती है| सांस अंदर लेते समय पेट फुलाएं|

शरीर की सही मुद्रा

फेफड़ें काफी मुलायम होते हैं और शरीर के मुद्रा के अनुसार वह समाते हैं| अगर आप बैठते समय कंधे गिराकर बैठें तो फेफड़ों को फूलने की जगह नहीं मिलती| इसलिए अपना शरीर और रीढ़ की हड्डी सीधी रखें|

हँसना

हंसने से पेट की कसरत होकर फेफड़ों की क्षमता बढती है| हंसने से शरीर में ताज़ी हवा भर जाती है|

अपने घर में हवा की गुणवत्ता बढ़ाना

ऐसी कई बातें हैं जिनकी वजह से आपके कमरे की हवा बिगड़ सकती है| सर्दियों में कमरे में कोयला जलाने से प्रदुषण होता है| लकड़ी जलाकर खाना पकाने से भी प्रदुषण होता है|

सही आहार लेना

एंटीऑक्सीडेंट युक्त आहार लेने से फेफड़ों का स्वास्थ बढ़ता है| पत्ता गोभी, फुल गोभी खाने से फेफड़ों का स्वास्थ सुधरता है|

काम की जगह पर होनेवाले प्रदुषण से बचना

काम की जगह हर स्तर के कर्मचारी को प्रदुषण का सामना करना पड़ता है| १५% लोगों को अस्थमा की समस्या होती है|

सुरक्षित उत्पादों का इस्तेमाल करें

अपने घर को साफ़ सुथरा रखें| ऐसा करते समय अपने फेफड़ों को सुरक्षित रखें| हानिकारक गैस और कणों से बचें|

Source: hinditips

Loading...

कृपया इस महत्वपूर्ण जानकारी को अपने परिवार और मित्रों  के साथ ज्यादा से ज्यादा शेयर करें!

Loading...

Next post:

Previous post: