डेंगू बुखार को नियंत्रित करने के लिए कुछ निवारण और लक्षण

Loading...

डेंगू एक गंभीर बुखार है

लोगो को अगर एक बार डेंगू का बुखार हो जाता है ,तो जीवन बदतर बना देता है इसलिए बुखार के बारे में आपको सावधान और सतर्क रहना होगा । लोगो को इसके बारे में बताने के लिए उनके घरो की ओंर दौड़े और उन्हें इसके बारे में सूचित करे । हो सकता  है पुरे परिवार को डेंगू के बारे में नही पता हो इसलिए मन में बुखार का डर न हो भगवान का शुक्र है यह उनके पास नही पहुंचे । डेंगू एक बीमारी का नाम है ,जिसे डेंगू बुखार के नाम से जाना जाता है ।

डेंगू तब हमला करता है:

जब कुछ लोग अचानक तेज बुखार से पीड़ित होते है

  • कुछ भारी सिरदर्द से पीड़ित हो
  • कुछ आँखों के पीछे दर्द से पीड़ित हो
  • कुछ जोड़ो में भारी दर्द या मांसपेशियों में दर्द से पीड़ित हो
  • कुछ मतली से ग्रस्त हो
  • कुछ उल्टी से पीड़ित हो
  • कुछ चार पांच दिन से त्वचा पर लाल फुंसी से पीड़ित हो
  • कुछ नाक से खून बहने से पीड़ित हो

डेंगू का बुखार काफी  दर्दनाक और असहनीय है डेंगू निकट से संबंधित डेंगू वायरस के कारण होता है डेंगू की बीमारी डेंगू वायरस से संक्रमित एक मच्छर के काटने से फैलती है जब यह मच्छर व्यक्ति को काटता है ओ उनके खून में डेंगू वायरस का संक्रमण हो जाता है  डेंगू का बुखार सीधे ही आपके शरीर में प्रवेश नही करता है बल्कि धीरे धीरे फैलता है

डेंगू ने दुनिया में उष्ण प्रदेशीय क्षेत्रो में हमला किया है जैस

  • भारतीय उप दक्षिणी महाद्वीप
  • दक्षिण- पूर्व एशिया
  • चीन महाद्वीप
  • प्रशांतीय द्वीप
  • कैरेबियन द्वीप समूह
  • दक्षिणी अमेरिका

इन उष्ण प्रदेशीय क्षेत्रो में डेंगू एक आम बुखार हो गया है जो भारत में भी आ गया है जो 4-6 दिनों से इस पीड़ा से पीड़ित है लोगो को इसके बारे में पता करना चाहिए  जिन्हें लगता था की यह एक सामान्य बुखार है जब असहनीय दर्द शुरू हो जाये तो मरीज़ को डॉक्टर के पास ले जाना चाहिए दुनिया में हर साल 100 मिलियन से ज्यादा लोग डेंगू के रोग से प्रभावित हो रहे है भारत में लगभग हर परिवार में मच्छर के काटने से लोग डेंगू के बुखार से ग्रस्त है यह गंभीर समस्याओ का कारण बनता है जैसे

  • डेंगू रक्तस्त्रावी बुखार
  • लसिका और रक्त वाहिकाओ को डेंगू
  • जिगर की वृद्धि
  • गोलाकार तंत्र की विफलता
  • मसुडो से खून बहना

भारी खून के लक्षण होना गभीर हो सकता है जो आपके सदमे और मौत का कारण बन सकता है इस हालत को डेंगू शॉक सिंड्रोम कहा जाता है इस बीमारी के लिए कोई दवाई नही है आमतोर पर इस दर्द के लिए कुछ तरल पदार्थो को लेने की और पूरी तरह से आराम करने की सलाह दी जाती है डॉक्टरों ने इस एस्परिन के साथ अन्य कोई दवाई का उपयोग नहीं करने की सलाह दी है क्योंकि इससे अधिक खून बहने का डर होता है ये लक्षण होने के 24 घंटे के अन्दर आपको इसे डॉक्टर को दिखाना चाहिए!

रोकथाम सिर्फ हमारे हाथो में है:

  • उष्ण प्रदेशीय क्षेत्रो में यात्रा नही करे और भारी आबादी वाले क्षेत्रो में ना रहे
  • मच्छरों के काटने से खुद को बचाने की कोशिश करे उन्हें भागने के उपाय करे
  • आपके परिवार के सदस्यों में से किसी एक को अगर डेंगू बुखार हो जाता है ,तो सावधानी बरते
  • घरो में दरवाजो और खिडकियों पर सफाई रखे
  • घर में मच्छरों को काटने से बचने के लिए विशेष उपाय करना चाहिए वरना एक ही मच्छर आपको नुकसान पहुँचा सकता है
  • डेंगू के बुखार के लिए कोई टीका नही है सुरक्षा से ही इससे बचा जा सकता है और निश्चित रूप से अच्छे परिणाम मिल सकते है ।

Source: hinditips

Loading...

कृपया इस महत्वपूर्ण जानकारी को अपने परिवार और मित्रों  के साथ ज्यादा से ज्यादा शेयर करें!

Loading...

Next post:

Previous post: