अगर आप कहते है microwave oven में पका खाना तो हो सकती है आप को बड़ी बीमारी

Loading...

NationalsUpdates

माइक्रोवेव से आपको हो सकते हैं ये खतरनाक रोग, जल्दी की चक्कर में न बनाएं खाने को जहरीला…

कैंसर पैदा करने वाले तत्व बन जाते हैं
माइक्रोवेव ओवन के विकिरण भोजन को जहरीला सकते हैं। बहुत अधिक तापमान पर यह आपके खाद्य पदार्थ को कैंसर पैदा करने वाले कारकों में बदल सकता है। आपको बता दें दूध और अनाज माइक्रावेव में गरम करने या पकाने से उनके कुछ अमीनो एसिड परिवर्तित होकर कैंसर पैदा करने वाले तत्व बन जाते हैं। मांस माइक्रावेव ओवन में पकाने से उसमें कैंसर पैदा करने वाले तत्व बन जाते हैं। यदि माइक्रोवेव ओवन में पकाए भोजन को रोज खाया जाए तो स्त्री और पुरुष के हार्मोन्स निर्माण पर भी असर पड़ता है। माइक्रोवेव ओवन में पकाई गई सब्जियों में विद्यमान खनिज कैंसरकारी फ्री रेडिकल्स में परिवर्तित हो जाते हैं।

फूड वैल्यू में कमी
ध्यान रखें बेबी फूड को कतई माइक्रावेव में गर्म न करें। इससे बच्चे के तंत्रिका तंत्र और गुर्दे पर खराब असर पड़ता है। वास्तव में भोजन की न्यूट्रिशियस वैल्यू ही खत्म हो जाती है। रूसी के शोधकर्ताओं का कहना है कि माइक्रोवेव ओवन परीक्षण में सभी खाद्य पदार्थों में 60 से 90 फीसदी फूड वैल्यू की कमी पाई गई। इसके अलावा रोग-प्रतिरोधक क्षमता भी कम होती है। हार्ट से संबंधित समस्याएं भी हो सकती हैं। मोतियाबिंद तक हो सकता है।

पेट में पल रहे बच्चे की सेहत पर बुरा असर
माइक्रोवेव में खाना पकाकर खाने से विटामिन बी12 की कमी हो जाती है। और तो और यह मां के दूध को भी खत्म कर देता है।  माइक्रोवेव ओवन के ज्यादा इस्तेमाल से पेट में पल रहे बच्चे की सेहत पर बुरा असर पड़ सकता है। उसके ब्रेन, हार्ट और लिंब्स आदि को नुकसान हो सकता है।
दरअसल माइक्रावेव के उच्च ऊष्मा विकिरण खाद्य पदार्थों में से सारे प्रोटीन, विटामिन और खनिज को खत्म कर देते हैं। ध्यान रखें प्लास्टिक के बर्तनों में माइक्रोवेव में खाना कभी न पकाएं, क्योंकि माइक्रोवेव में प्लास्टिक के बर्तन विषाक्त पदार्थ छोड़ते हैं, जिससे कैंसर होने की संभावना होती है। इसके अलावा माइक्रोवेव में बने खाने को खाने से मेमोरी भी लॉस होती है। एकाग्रता में कमी आती है।

माइक्रोवेव में गर्म रक्त से हो गई थी मौत
गौरतलब है कि अमेरिका में एक व्यक्ति की मौत माइक्रोवेव ओवन में गरम किए खून को चढ़ाने से हो गई थी। माइक्रोवेव ओवन में गरम करने के दौरान रक्त  एक घातक पदार्थ में बदल गया था। गौरतलब है कि रूस के वैज्ञानिक शोधों के निष्कर्ष में पाए गए स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभावों के चलते 1976 में माइक्रोवेव ओवन पर प्रतिबंध लगाया था, हालांकि बाद में इसे हटा दिया गया।

Source: nationalupdates

Loading...

कृपया इस महत्वपूर्ण जानकारी को अपने परिवार और मित्रों  के साथ ज्यादा से ज्यादा शेयर करें!

Loading...

Next post:

Previous post: