Paad ko rokane पाद को रोकने se hotaa hai sabase badaa nukasaan, jaaniye gas chhodne ke faayade गैस छोड़ने के फायदे

Loading...

पाद या गैस छोड़ना (Farts)

पाद (Farts) जी हां इस नाम को सुनते ही हमारे भाव एकदम बदल जाते है कोई हंसने लगना है तो कोई गुस्सा करने लगता है।बात करें पाद की तो ये एक ऐसी हवा है जो हम ना चाहते हुए भी अपने शरीर से निकाल ही देते है। हम इसे कितना भी रोकने की कोशिश करें लेकिन ये कुछ भी कर हमारे शरीर से बाहर चली ही जाती है। पाद को हम नहीं रोक सकते ठीक उस तरह जिस तरह हम ढकार को नहीं रोक सकते है। वैसे तो लोग पाद शब्द बोलते नहीं है क्योंकि यह शब्द उन्हें असहज लगता है और वे इसे गलत मानते है। लेकिन क्यों ? जब आपको पादने में शर्म नहीं आती है तो बोलने में क्यों पादना एक सकारात्मक क्रिया है जो कभी कभी सार्वजनिक स्थान में हो जाती है तो कभी कभी बंद कमरे में, कभी कभी किसी के भी सामने हो जाती है, तो कभी कभी अकेले में भी हो जाती है।

पाद से बदबू क्यों आती है –

पादने के बाद उसमे से आने वाली बदबू हम सभी में से कोई बर्दास्त नहीं कर पाता, वो भी नहीं जो पाद छोड़ता है। ऐसे में वो बदबू क्यों आती है ये हम सभी शायद नहीं जानते है। तो चलिए आज हम आपको बताते है की आखिर ऐसा क्यों होता है ?? दरसल में हम दिनभर में बहुत कुछ खाते पीते है ऐसे में कई चींज़े ऐसी होती है जिनमे सल्फर पाया जाता है। यही सल्फर हमारे शरीर में जाने के बाद टूट जाता है और उसके बाद इसके अंदर से हाइड्रोजन सल्फाइड निकलती है जिसकी बदबू एक सड़े हुए अंडे के समान होती है जो हमारी पाद के रूप में निकलती है। मतलब साफ़ है कि अगर आपने कोई ऐसी चीज़ खाई है जिसमे सल्फर था तो आपको पाद में से बदबू आना स्वभाविक है।

पादना बुरी बात क्यों है

अब बात की जाए पाद की तो लोगों ने शुरू से ही यह माना है कि यह एक बुरी आदत है। लेकिन यह गलत है पादना एक अच्छी आदत है इससे यह पता चलता है की आपकी सेहत अच्छी है और आप पूरी मात्रा में फाइबर खा रहें हैं।

 एक दिन में इतनी बार पादता है इंसान

इंसान एक दिन में औसतन 14 बार पादता है। यह आंकड़ा महिलाओं और पुरुषों में एक जैसा है। हाँ, वो बात अलग है कि इस तथ्य को महिलाएं नहीं मानती।

अधिक जानकारी के लिए देखे विडियो :-

 

पाद को रोकने से होता है सबसे बड़ा नुकसान, जानिए गैस छोड़ने के फायदे और जो दोस्त गैस छोड़ता है उसको Tag करना ना भूले !

पाद या गैस छोड़ना (Farts) :
पाद (Farts) जी हां इस नाम को सुनते ही हमारे भाव एकदम बदल जाते है कोई हंसने लगना है तो कोई गुस्सा करने लगता है।बात करें पाद की तो ये एक ऐसी हवा है जो हम ना चाहते हुए भी अपने शरीर से निकाल ही देते है।

हम इसे कितना भी रोकने की कोशिश करें लेकिन ये कुछ भी कर हमारे शरीर से बाहर चली ही जाती है। पाद को हम नहीं रोक सकते ठीक उस तरह जिस तरह हम ढकार को नहीं रोक सकते है। वैसे तो लोग पाद शब्द बोलते नहीं है क्योंकि यह शब्द उन्हें असहज लगता है और वे इसे गलत मानते है।

लेकिन क्यों ? जब आपको पादने में शर्म नहीं आती है तो बोलने में क्यों पादना एक सकारात्मक क्रिया है जो कभी कभी सार्वजनिक स्थान में हो जाती है तो कभी कभी बंद कमरे में, कभी कभी किसी के भी सामने हो जाती है, तो कभी कभी अकेले में भी हो जाती है।

पाद से बदबू क्यों आती है –
पादने के बाद उसमे से आने वाली बदबू हम सभी में से कोई बर्दास्त नहीं कर पाता, वो भी नहीं जो पाद छोड़ता है। ऐसे में वो बदबू क्यों आती है ये हम सभी शायद नहीं जानते है। तो चलिए आज हम आपको बताते है की आखिर ऐसा क्यों होता है ?? दरसल में हम दिनभर में बहुत कुछ खाते पीते है ऐसे में कई चींज़े ऐसी होती है जिनमे सल्फर पाया जाता है।

यही सल्फर हमारे शरीर में जाने के बाद टूट जाता है और उसके बाद इसके अंदर से हाइड्रोजन सल्फाइड निकलती है जिसकी बदबू एक सड़े हुए अंडे के समान होती है जो हमारी पाद के रूप में निकलती है। मतलब साफ़ है कि अगर आपने कोई ऐसी चीज़ खाई है जिसमे सल्फर था तो आपको पाद में से बदबू आना स्वभाविक है।

पादना बुरी बात क्यों है –

अब बात की जाए पाद की तो लोगों ने शुरू से ही यह माना है कि यह एक बुरी आदत है। लेकिन यह गलत है पादना एक अच्छी आदत है इससे यह पता चलता है की आपकी सेहत अच्छी है और आप पूरी मात्रा में फाइबर खा रहें हैं।

पेट में गैस बनना एक भयंकर बीमारी है इसकी वजह से कई बार हमें शर्मिंदगी भी उठानी पड़ जाती है . समान्यता जिनको ज्यादा गैस बनती है

वे लोग थोड़े चिडचिडे स्वभाव के भी हो जाते है और पीठ पीछे लोग उनका उपहास भी उड़ाते है . वैसे पेट में गैस होने के कारण हमारा पाचन तंत्र भी बिगड़ सकता है .

वैसे तो गैस हर किसी के शरीर में बनती है . जो शरीर से डकार द्वारा बाहर निकलती है बाकि बची हुई गैस द्वारा पेट में अनेक समस्याएं उत्पन्न हो जाती है .

जिनकी पाचन शक्ति खराब रहती है या जो प्राय: कब्ज के शिकार रहते हैं, उनको पेट के गैस की समस्या अधिक होती है . लंबे समय तक रहने वाली पेट में गैस की समस्या बवासीर और अल्सर में बदल सकती है .

दरअसल पेट में गैस होने के दो मुख्य बड़े कारण है भोजन का पेट में अपचन और दूसरा हवा का निगलना . हवा के अन्दर निगलने को मेडिकल भाषा में aerophagia कहा जाता है .

हम खाने और पीते समय हवा को अन्दर ग्रहण कर लेते हैं . जब हम जरुरत से ज्यादा हवा ग्रहण कर लेते हैं तो उसमें से कुछ हवा डकार के रूप में बहार आ जाती है और बची हवा पेट में गैस के रूप में रह जाती है .

यह एक बहुत ही गंभीर बीमारी है जिसका समय पर इलाज करवाना बेहद जरुरी है क्यूंकि यह समस्या हमारे शरीर में अन्य कई बिमारियों को पैदा करने का कारण बनती है .

तो आज हम आपको इसके होने के कारण तथा इसके कुछ घरेलू उपाय भी आपको बताने जा रहे है जिसके द्वारा आप इस बीमारी से हमेशा के लिए पीछा छुड़ा सकते है

ज़िंदगी में हमें तरह-तरह की स्थितियों का सामना करना पड़ता है। इन्हीं में से एक है पाद का आना। जब चार लोग एक ग्रुप में बैठे हों और कहीं से गन्दी बदबू आ जाए तो सब एक-दूसरे पर इस तरह शक करने लगते हैं। मानो किसी ने गैस पास नहीं की हो बल्कि किसी का खून कर दिया हो। और तो और कुछ लोगों का व्यवहार तो ऐसा होता है मानो उनके पेट में गैस बनती ही नहीं है। इस हालत में गैस पास करने वाला आदमी भी ऐसा व्यवहार करने लगता है कि उसने कुछ नहीं किया है। कारण कि इतनी जिल्लत कौन झेले।

इस बीच कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो धीरे-धीरे से गैस पास कर देते हैं। कुछ ऐसे भी होते हैं जो शर्मिंदगी से बचने के लिए लम्बे समय तक पाद को रोककर रखते हैं। मगर एक्सीटर यूनिवर्सिटी में हुए अध्ययन में सामने आया है कि पेट में बनने वाली गैस को जबरन रोककर नहीं रखना चाहिए। इसका नुकसान है। इसके उलट गैस पास करने के फायदे हैं। आज बात उन्हीं कुछ बिंदुओं पर।

पादने पर निकलने वाली गैस में होते हैं ऐसे तत्व

जब कोई इंसान पादता है, तब उसके शरीर से निकलने वाली गैस में सामान्‍य तौर पर 59% नाइट्रोजन, 21% हाइड्रोजन, 9% कार्बन डाईऑक्‍साइड, 7% मीथेन, 4% ऑक्‍सीजन और सिर्फ 1% सल्‍फर युक्‍त गैस होती शामिल होती है।

आगे देखिये क्यों आती है पाद से दुर्गन्ध।

सल्फर वाली डाइट से आती है दुर्गन्ध 

हमारी डाइट में मौजूद सल्फर ही पाद से आने वाली बदबू की मुख्य वजह होता है। पत्‍तागोभी, बीन्‍स, चीज, सोडा और अंडे आदि में सल्फर मौजूद होता है। इनके सेवन से हमारे शरीर में ज्यादा बदबूदार गैस बनती है।

एक दिन में इतनी बार पादता है इंसान

इंसान एक दिन में औसतन 14 बार पादता है। यह आंकड़ा महिलाओं और पुरुषों में एक जैसा है। हाँ, वो बात अलग है कि इस तथ्य को महिलाएं नहीं मानती।

आगे देखिये पादने के फायदे

7. पेट दर्द से बचाता है

गैस को ज्यादा देर तक रोकने से पेट दर्द की समस्या हो सकती है। गैस को वक्त पर छोड़ते रहना आपको इससे बचा सकता है।

संभव हो तो यह भी कर लें

अगर संभव हो तो गैस पास करने से पहले पेट की मसाज भी कर लें। इससे गैस ठीक तरह से आपके पाचन तंत्र से निकल जाएगी।

आगे देखिये, पाद से कैसे पता लगाएंगे कि आपने संतुलित आहार लिया है या नहीं।

6. इस तरह चल जाता है पता

पाद की बदबू बहुत तेज है या नार्मल। इस बात से पता लगाया जा सकता है कि आपने संतुलित आहार लिया है या नहीं।

जैसे कि अगर आपने सोडियम युक्त खाना ज्यादा खा लिया है तो आपके पाद से तेज बदबू आती है। वहीं अगर आपने ज्यादा कार्बोहाइड्रेड युक्त खाना खाया है तो आपको पाद ज्यादा आती है लेकिन उसकी बू नार्मल रहती है।

आगे देखिये पाद से चल जाता है एलर्जी का पता

5. इस तरह लग जाता है एलर्जी का पता

पाद से lactose intolerance (दूध की एलर्जी) या अन्य कोई पाचन सम्बंधित एलर्जी का भी पता लगाया जा सकता है। अगर आपको कुछ विशेष प्रकार की चीजें खाने की वजह से ज्यादा गैस बनती है तो इसका मतलब है कि आपको उस चीज से एलर्जी है।

4. बड़ी आंत की सेहत के लिए भी है अच्छा 

पाद को रोककर रखने से बड़ी आंत में भी परेशानी हो सकती है। ऐसे में जिन्हें बड़ी आंत को लेकर कोई समस्या रहती है उन्हें गैस को बिलकुल रोककर नहीं रखना चाहिए।

आगे देखिये पाद को सूंघने के भी होते हैं फायदे

3. पाद सूंघने के फायदे 

एक रिसर्च के अनुसार छोटी मात्रा में पाद को सूंघना स्वास्थ्य के लिए अच्छा होता है। पाद में हाइड्रोजन सल्फाइड गैस होता है। छोटी मात्रा में यह शरीर में जाने से कैंसर, दिल का आघात, दौरा और गठिया होने की संभावना कम हो जाती है।

2. पेट की सूजन को करता है कम 

आंत में बनने वाली गैस की वजह से कई बार पेट की सूजन हो जाती है। यही कारण है कि गैस को रोकने की आदत छोड़ देना चाहिए।

1. यह आनंद देता है 

यह बात तो हर कोई मानता है कि गैस पास कर देने के बाद एक अलग तरह के सुकून की प्राप्ति होती है। बस तो फिर गैस को रोकिये मत। मौका मिलते ही पास कर दीजिए।

Loading...

यह आर्टिकल अपने करीबियों के साथ भी जरूर शेयर कीजिए।

 

Loading...

Next post:

Previous post: