इन गर्मियों में यूं करें आंखों की देखभाल

Loading...

NationalsUpdates

बढ़ती गर्मी में जिस प्रकार हम अपनी त्वचा, बाल और सेहत का ध्यान रखते हैं, उसी तरह आंखों का ध्यान रखना भी बेहद महत्वपूर्ण कार्य है। गर्मियों में तेज़ धूप होने के कारण हम सही ढंग से देख नहीं पाते हैं, जिसकी वज़ह से आंखों को नुकसान पहुंचता है। सिर्फ यही नहीं, गर्मी के समय धूल, मिट्टी और पॉल्यूशन भी हमारी आंखों को खराब करती हैं। गर्मियों में स्किन के साथ आंखों का ख्याल करना भी बहुत ज़रूरी होता है।

बहुत ज़्यादा गर्मी का मौसम अपने साथ कई समस्याएं लेकर आता है। ऐसे में आप स्किन पर सनस्किरीन लगाकर उसका बचाव तो कर लेते हैं, लेकिन अपनी आंखों की ओर ध्यान कम दे पाते हैं। क्या आप जानते हैं कि धूप से निकलने वाली अल्ट्रा वॉयलेट रेज़ आंखों के लिए कितनी खतरनाक होती हैं? गर्मी के कारण आंखों में मेलानोमा या लायमोफोमा जैसी कई तरह की बीमारियों के होने का जोखिम बढ़ जाता है।

डॉ. महिपाल एस. सचदेव, सेंटर फॉर साइट ग्रुप ऑफ आई हॉस्पिटल्स के प्रबंध निदेशक, चेयरमैन और चिकित्सा निदेशक का कहना है कि “अल्ट्रा वॉयलेट रेज़, मौसम के साथ फैलती हैं, जिसकी गति प्रकाश से भी अधिक तेज़ होती है। यहां तक कि यह रेज़ छाया होने पर भी मौजूद रहती हैं, जिसकी वज़ह से आंखों से संबंधित कई समस्याएं पैदा हो सकती हैं”।

धूप में किस तरह करें आंखों का बचाव
धूप में निकलते समय आंखों पर सनग्लासिज़ ज़रूर लगाएं। यह ख़तरनाक अल्ट्रा वॉयलेट ‘ए’ और अल्ट्रा वायलेट ‘बी’ रेज़ को रोकता है। धूप के छिप जाने के बाद अगर आप छाया में खड़े हों, तब भी सनग्लासिज़ का उपयोग करें। हालांकि छाया में यूवी रेज़ कुछ डिग्री कम होती हैं , लेकिन सामने की इमारतों और सड़क पर चल रहे वाहनों से आने टकराकर वापस आने वाली यूवी रेज़ अपना बूरा प्रभाव आपकी आंखों पर डाल सकती हैं। इसके अलावा सिर पर हैट लगाकर भी आप इन रेज़ को आंखों में आने से रोक सकते हैं। धूप में निकलते समय चौड़े किनारे वाली टोपी या हैट पहनकर निकलें, यह बचाव की एक अतिरिक्त परत का काम करती है।

खूब पानी पीएं
आंखों में नमी बनी रहनी चाहिए। यह आंखों के स्वास्थ्य के लिए बेहद आवश्यक है। प्रतिदिन कम से कम दो लीटर पानी ज़रूर पीएं, ताकि आंखों और त्वचा को डिहाइड्रेशन से बचाया जा सके। डिहाइड्रेशन से आपकी आंखों में लुब्रिकेशन की कमी आ सकती है, जिससे जीरोफ्थलमिया (सूखी आंखें) जैसी बीमारी होना संभव है। पर्याप्त मात्रा में पानी पीने से आपकी आंखों की गतिविधियां गर्मियों के प्रभाव को संतुलित कर विपरीत प्रभावों से बचाए रखती हैं।

अच्छी आंखों के लिए थोड़े समय के गैप से अपनी आंखों को डॉक्टर से चैक कराते रहे।नई दिल्ली: बढ़ती गर्मी में जिस प्रकार हम अपनी त्वचा, बाल और सेहत का ध्यान रखते हैं, उसी तरह आंखों का ध्यान रखना भी बेहद महत्वपूर्ण कार्य है। गर्मियों में तेज़ धूप होने के कारण हम सही ढंग से देख नहीं पाते हैं, जिसकी वज़ह से आंखों को नुकसान पहुंचता है। सिर्फ यही नहीं, गर्मी के समय धूल, मिट्टी और पॉल्यूशन भी हमारी आंखों को खराब करती हैं। गर्मियों में स्किन के साथ आंखों का ख्याल करना भी बहुत ज़रूरी होता है।

बहुत ज़्यादा गर्मी का मौसम अपने साथ कई समस्याएं लेकर आता है। ऐसे में आप स्किन पर सनस्किरीन लगाकर उसका बचाव तो कर लेते हैं, लेकिन अपनी आंखों की ओर ध्यान कम दे पाते हैं। क्या आप जानते हैं कि धूप से निकलने वाली अल्ट्रा वॉयलेट रेज़ आंखों के लिए कितनी खतरनाक होती हैं? गर्मी के कारण आंखों में मेलानोमा या लायमोफोमा जैसी कई तरह की बीमारियों के होने का जोखिम बढ़ जाता है।

डॉ. महिपाल एस. सचदेव, सेंटर फॉर साइट ग्रुप ऑफ आई हॉस्पिटल्स के प्रबंध निदेशक, चेयरमैन और चिकित्सा निदेशक का कहना है कि “अल्ट्रा वॉयलेट रेज़, मौसम के साथ फैलती हैं, जिसकी गति प्रकाश से भी अधिक तेज़ होती है। यहां तक कि यह रेज़ छाया होने पर भी मौजूद रहती हैं, जिसकी वज़ह से आंखों से संबंधित कई समस्याएं पैदा हो सकती हैं”।

धूप में किस तरह करें आंखों का बचाव
धूप में निकलते समय आंखों पर सनग्लासिज़ ज़रूर लगाएं। यह ख़तरनाक अल्ट्रा वॉयलेट ‘ए’ और अल्ट्रा वायलेट ‘बी’ रेज़ को रोकता है। धूप के छिप जाने के बाद अगर आप छाया में खड़े हों, तब भी सनग्लासिज़ का उपयोग करें। हालांकि छाया में यूवी रेज़ कुछ डिग्री कम होती हैं , लेकिन सामने की इमारतों और सड़क पर चल रहे वाहनों से आने टकराकर वापस आने वाली यूवी रेज़ अपना बूरा प्रभाव आपकी आंखों पर डाल सकती हैं। इसके अलावा सिर पर हैट लगाकर भी आप इन रेज़ को आंखों में आने से रोक सकते हैं। धूप में निकलते समय चौड़े किनारे वाली टोपी या हैट पहनकर निकलें, यह बचाव की एक अतिरिक्त परत का काम करती है।

खूब पानी पीएं
आंखों में नमी बनी रहनी चाहिए। यह आंखों के स्वास्थ्य के लिए बेहद आवश्यक है। प्रतिदिन कम से कम दो लीटर पानी ज़रूर पीएं, ताकि आंखों और त्वचा को डिहाइड्रेशन से बचाया जा सके। डिहाइड्रेशन से आपकी आंखों में लुब्रिकेशन की कमी आ सकती है, जिससे जीरोफ्थलमिया (सूखी आंखें) जैसी बीमारी होना संभव है। पर्याप्त मात्रा में पानी पीने से आपकी आंखों की गतिविधियां गर्मियों के प्रभाव को संतुलित कर विपरीत प्रभावों से बचाए रखती हैं।

अच्छी आंखों के लिए थोड़े समय के गैप से अपनी आंखों को डॉक्टर से चैक कराते रहे।

Source: nationalupdates

Loading...

कृपया इस महत्वपूर्ण जानकारी को अपने परिवार और मित्रों  के साथ ज्यादा से ज्यादा शेयर करें!

Loading...

Next post:

Previous post: