थायराइड की समस्या में ये एक्सरसाइज हैं कारगर

Loading...

Navodayatimesआजकल लोगों में थायराइड एक आम समस्या है। एक बार इस बीमारी की चपेट में आ जाने के बाद पूरा जीवन दवाओं पर निर्भर रहना पड़ता है, लेकिन संयमित जीवनशैली अपना कर काफी हद तक इस बीमारी से निजात पाया जा सकता है।

दरअसल थायराइड ग्लैंड शरीर की सम्पूर्ण क्रियाओं को चलने में महत्वपूर्ण योगदान होता है। यह थायराइड हार्मोन प्रॉड्यूस करता है, जिससे आपकी बॉडी का मेटाबोलिज्म रेगुलेट  होता है। आप जो  भी खाते पीते हैं, उसे यह एनर्जी में कन्वर्ट करता है, लेकिन जब आपको हाइपर थायरोडिस्म की समस्या होती है, तब  मेटाबोलिज्म काफी स्लो हो जाता है। इससे वेट बढ़ जाता है और थोड़ा भी शारीरिक श्रम करने पर कमजोरी महसूस होने लगती है। यह कोलेस्ट्रॉल को बढ़ा देता है और खून में फैट की मात्रा को भी  देता है।

हाइपर थाइरायडिस्म मूड को भी प्रभावित करता है। थायराइड ग्लैंड केमिकल मैसेंजर न्यूरोट्रांसमीटर को रेगुलेट करता है। ब्रेन कम्युनिकेट करने के लिए नर्व का सहारा लेता हैं, लेकिन थाइराइड की समस्या होने पर मूड स्विंग और आलस महसूस होता है और दिमाग और नर्व के बीच की प्राकृतिक प्रक्रिया बाधित होती है।   

एक्सरसाइज
हाइपर थाइरायडिस्म की समस्या में वेट काफी बढ़ जाता है। इस समसया से निजात पाने के लिए डायट चार्ट और रेगुलर एक्सरसाइज के जरिये कैलोरीज बर्न किया जा सकता है। वेलनेस एक्सपर्ट रवि शंकर कहते हैं कि इस बीमारी से प्रभावित लोगों को लो इम्पैक्ट एरोबिक  एक्सरसाइज करनी चाहिए।

इससे आपका हार्ट रेट सही रहेगा और आपके लंग्स पर बहुत अधिक प्रेसर नहीं पड़ेगा। इसमें आपके जॉइंट पर प्रेसर पड़ेगा, यह इसलिए भी जरूरी है, क्योंकि इस बीमारी से प्रभावित लोगों के जॉइंट में दर्द की काफी समस्या रहती है। कार्डियो एक्सर साइज में बाई- सायकिल और वाकिंग भी अच्छा रहता है। बाइक और हिप पेन की समस्या में योग के कुछ आसान भी मददगार साबित हो सकते हैं।

Source: navodayatimes

Loading...

कृपया इस महत्वपूर्ण जानकारी को अपने परिवार और मित्रों  के साथ ज्यादा से ज्यादा शेयर करें!

Loading...

Next post:

Previous post: