कमर दर्द एवं उदर रोगों में लाभकारी है धनुरासन, जानिए इसकी विधि

Loading...

भागदौड़ भरी इस जिंदगी में अपने स्वास्थ्य का ख्याल रख पाना थोड़ा मुश्किल हो गया है। व्यस्तता के कारण हम अपने स्वास्थ्य का ख्याल नहीं रख पाते है| इसके अतिरिक्त दैनिक जीवन में मिलने वाला तनाव भी हमारे शरीर को अस्वस्थ करते जाता है| लेकिन इसके बावजूद भी ना ही हम तनाव से खुद को दूर कर पाएंगे और ना ही रोज रोज संतुलित आहार लेना हमारे लिए मुमकिन हो पाएगा|

ऐसे में एक ही चीज है जो आपको फिट और सेहतमंद रख सकती है| आप बिलकुल सही समझ रहे है हम बात कर रहे है योग की| आज के समय में योग ही ऐसी चिकित्सक पद्धति है जो आपको बिना कुछ खर्च किये बेहतर स्वास्थप्रद जिंदगी दे सकती है|

योग करने से आपकी हेल्थ अच्छी रहती है| योग के अंतर्गत किये जाने वाले आसनो से आपको कई फायदे भी मिलते हैं| आज हम जानेंगे धनुरासन से जुड़े कुछ अहम फायदे। यह आसन हमारे सेहत के लिए एक वरदान की तरह है। इससे हमें आए दिन बीमारियों के लिए डॉक्टरों के चक्कर लगाने से भी छुटकारा मिलता है।

दरहसल धनुरासन आपकी पाचन प्रणाली को सुचारु रखता है| और यदि आपका पेट ठीक है तो समझ लीजिए आपकी सेहत से जुडी आधी परेशानियां तो यु ही खत्म हो गयी है| आइये विस्तार पूर्वक जानते है Dhanurasana in Hindi.

Dhanurasana in Hindi: जानिए धनुरासन की विधि, लाभ और सावधानियाँ

Dhanurasana in Hindi
धनुरासन शरीर के लिए बहुत ही फायदेमंद योग है। इस योग आसान को करते वक्त शरीर की आकृति धनुस की तरह होती है| इसलिए इसे धनुरासन कहा जाता है। अंग्रेजी में इसे Bow Pose के नाम से जाना है|

Dhanurasana Steps in Hindi: धनुरासन करने की विधि

  • सबसे पहले जमीन पर दरी बिछा कर पेट के बल लेट जाएँ।
  • इसके पश्चात दोनों घुटनों को एक साथ मोड़ें और एड़ियों को हाथों की मदद से पकड़कर पैरों की एडियों को पीठ की ओर बढ़ाएं|
  • अब अपने हाथों से पैरों को पीछे की और खीचें। इस वक्त अंदर की और सांस ले|
  • अब क्षमतानुसार सर और जांघो को उपर की तरफ उठाने का प्रयत्न करे|
  • इसी समय जमीन पर से सीने को भी उठायें। इस वक्त आपका शरीर धनुष के सामान प्रतीत होता है|
  • आसन को करने की अवधि 10 से 25 सेकंड तक रखें और धीरे-धीरे इसके समय को बढ़ाएं।
  • आसन को करते वक्त आपको लंबी सांसे लेनी है और छोड़नी है।
  • जो लोग शुरुआती है और अपनी जांघो को नहीं उठा पा रहे हैं वे केवल अपना सिर उठाएं।
  • अब धीरे-धीरे सांस को छोड़ते हुए वापस पेट के बल वाली अवस्था में आएं। अपने पैरो और सीने को एकदम आहिस्ता से जमीं पर रखे|

Dhanurasana Benefits in Hindi: धनुरासन योग के लाभ

  1. Dhanurasana Yoga पेट के विकारों को दूर करता है। इसे अपच, अजीर्ण और कब्ज ठीक होता है|
  2. यह आसान प्रसव के बाद पेट पर पड़ने वाली झुर्रियों को दूर करने में मददगार है|
  3. इसका नियमित अभ्यास शरीर की चर्बी को कम करता है जिस वजह से मोटाप नहीं होता है|
  4. यह रोजमर्रा के होने वाले पीठ दर्द, गर्दन दर्द और कमर दर्द से निजात दिलाने में फायदेमंद है|
  5. यह आसन कंधों और पैरों को मजबूत बनाता है| यह रीढ़ की हड्डी के दर्द में भी लाभदायक होता है।
  6. इस आसन को करने से अंगो को मजबूती मिलती है और श्वसन तंत्र पर भी सकारात्मक प्रभाव पड़ता है|
  7. इस आसन को करने से शरीर का अच्छा व्यायाम हो जाता है जिससे शरीर के ये अंग सुचारू रूप से कार्य करने लगते हैं|
  8. यह आसन स्‍त्रीरोग में भी बहुत लाभकारी है। इससे महिलाओं मे मासिक धर्म से संबंधित परेशानियां दूर होती है| इससे गर्भाशय के रोग खत्‍म हो जाते हैं।
  9. धनुरासन का नियमित अभ्यास मेरुदंड को लचीला एवं स्वस्थ बनाता है। सर्वाइकल स्पांडिलाइटिस,  और पेट संबंधी रोगों में भी यह लाभकारी है।

धनुरासन में बरती जाने वाली सावधानियाँ

  • गर्भवती महिलाओं को धनुरासन का अभ्यास नहीं करना चाहिए।
  • इस आसन को अपनी क्षमता के अनुसार और योग विशेषज्ञ के देखरेख में ही करना चाहिए|
  • जिन्हें भी कमर दर्द की समस्या है वे इस आसन को बिल्कुल आहिस्ता से और आराम से करें।
  • जिन लोगों को किसी तरह की शारीरिक समस्या जैसे की पेट में अल्सर,  हाइ ब्लडप्रेसर, हर्निया, सिरदर्द, आंतो की समस्या, माइग्रेन, गर्दन पर चोट आदि है वो इस आसन को न करें।

ऊपर आपने जाना Dhanurasana in Hindi. धनुरासन करने से आपको कई फायदे मिलते हैं लेकिन योग विशेषज्ञ की रेख देख में ही इस आसन को करे|

Source: hrelate

Loading...

कृपया इस महत्वपूर्ण जानकारी को अपने परिवार और मित्रों  के साथ ज्यादा से ज्यादा शेयर करें!

Loading...

Next post:

Previous post: