डेंगू से बचने के 6 घरेलू नुस्खे

Loading...

tiger-mosquitoडेंगू का प्रकोप अब देश-विदेश हर जगह फैल चुका है। एडीज नामक मच्छर के काटने से ही यह वायरस तेज़ी से फैलता है। तेज़ बुखार और प्लेटलेट्स का कम होना इसका मुख्य लक्षण हैं। यह कोई छुआछुत की बीमारी नहीं है।

बुखार के अलावा इसके सामान्य लक्षण हैं सिरदर्द, मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द और त्वचा का खराब हो जाना। पिछले कुछ सालों में डेंगू के मामले लगातार बढ़ते ही जा रहे हैं।

डेंगू जैसी जानलेवा बीमारी का पता आप ब्लड टेस्ट के द्वारा ही लगा सकते हैं। यूं ते इससे बचने के लिए कोई खास दवाई अब तक नहीं बनाई गई है, लेकिन इस दौरान आपको सही से आराम करने और बहुत सारे पेय पदार्थ पीने की सलाह दी जाती है।

आइए बताते हैं कुछ घरेलू उपचार

गिलोय

डेंगू को सबसे तेज़ी से खत्म करने की ताकत रखने वाला गिलोय का आयुर्वेद में बहुत महत्व है। यह मेटाबॉलिक रेट बढ़ाने, प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत रखने और साथ ही आपके बॉडी को कई सारे इंफेक्शन से बचाने में मदद करती है। यही नहीं, इनके तनों को उबालकर हर्बल ड्रिंक की तरह सर्व किया जा सकता है। इस ड्रिंक में आप तुलसी के पत्ते भी डालकर पी सकते हैं।

पपीते के पत्ते
जैसा कि हम जानते हैं कि डेंगू के दौरान प्लेटलेट्स कम हो जाते हैं, ऐसे में पपीते के पत्ते आपके प्लेटलेट्स को बढ़ाने में मदद करते हैं। साथ ही बॉडी में दर्द, कमजोरी महसूस होना, उबकाई आना, थकान महसूस होना आदि जैसे बुखार के लक्षण को भी कम करने में सहायक साबित होगा। आप इसकी पत्तियों को कूट कर खा सकते हैं या फिर इन्हें ड्रिंक की तरह भी पी सकते हैं। इस टिप्स को आजमाने से आपके बॉडी का सारा टॉक्सिन बाहर निकल जाएगा।

मेथी के पत्ते
इसकी पत्तियां बुखार कम करने में सहायक साबित होती हैं। यह डेंगू से पीड़ित लोगों का दर्द दूर कर उसे आसानी से नींद लाने में मदद करती हैं। इसकी पत्तियों को पानी में भिगोकर उसके पानी को पीया जा सकता है। इसके अलावा, मेथी पाउडर को भी पानी में मिलाकर आप पी सकते हैं।

गोल्डनसील
यह एक हर्ब का नाम है जो नार्थ अमेरिका में पाया जाता है। इस हर्ब से दवाई बनाया जाता है। इस हर्ब में डेंगू के वायरस को खत्म करने की क्षमता होती है। यह पपीते की पत्तियों की तरह ही काम करती हैं और उन्हीं की तरह इन्हें भी इस्तेमाल किया जाता है।

हल्दी
इसका प्रयोग आप मेटाबालिज्म बढ़ाने में कर सकते हैं। यही नहीं, घाव को जल्दी ठीक करने में भी यह मददगार साबित होती है। हल्दी को दूध में मिलाकर आप पी सकते हैं।
तुलसी के पत्ते और काली मिर्च

यह बहुत कम लोग जानते हैं कि तुलसी के पत्ते डेंगू जैसी गंभीर बीमारी को भी छू-मंतर कर सकते हैं। जी हां, डेंगू के फैलते ही आप तुलसी का पत्ता और दो ग्राम काली मिर्च को पानी में उबालकर पीना शुरू करें, यह आपके सेहत के लिए अच्छा माना जाता है। यह ड्रिंक आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाती है और एंटी-बैक्टीरियल तत्व के रूप में कार्य करती है।

Source: sehatgyan

Loading...

कृपया इस महत्वपूर्ण जानकारी को अपने परिवार और मित्रों  के साथ ज्यादा से ज्यादा शेयर करें!

Loading...

Next post:

Previous post: