क्या फायदे हो सकते है कपालभाति प्राणायाम करने से

Loading...

कपाल मस्तिष्क के अग्र भाग को कहते हैं, भाती ज्योति, कान्ति, तेज को कहते हैं। कपालभाती प्राणायाम लगातार करने से चेहरे का लावण्य बढता है। यह धरती की सन्जीवनि कहलाता है।

Benefits of Kapalbhati Pranayam in Hindi

कैसे करे कपालभाति? (How to Do Kapalbhati Pranayam)

वज्रासन, खासन, पद्मासन, सिद्धासन में बैठें और सांस को बाहर फेंकते समय पेट अन्दर की तरफ ले, इसमें सिर्फ सांस को छोडते रेहना है। दो सांस लेने की प्रक्रिया के बीच अपने आप ही सांस अन्दर चली जायेगी, जान-बूझ के सांस को अन्दर नहीं लेना है।

कपालभाती करते समय Foundations cycle पे ध्यान केन्द्रीत करना होता है। इससे Foundations cycle जाग्रत हो के कुन्ड्लीनि शक्ति को जाग्रत करता है। कपालभाती करते समय यह सोचे की हमारे शरीर के सारे negative तत्व बाहर जा रहे है। रोज कम से कम 5 मिनिट कपालभाती करना ही है, यह दृढ संकल्प करना है।

लाभ (Benefits of Kapalbhati Pranayam in Hindi)

  • चेहरे पर से झुरीयाँ, आखो के निचे से डार्क सर्कल मिट जाते है।
  • बालो की समस्याओँ का समाधान होता है।
  • थाइरोइड से निजात के लिए असरदार है।
  • आखो की रोशनी लौट आती है और आखो से सम्बंधित सभी प्रकार की समस्या मिट जाती है।
  • त्वचा की समस्या मिट जाती है।
  • कपालभाती करने से शरीर की चर्बी घटती है।
  • दातों की सभी प्रकारकी समस्या जैसे की पायरीया ठीक हो जाती है।
  • युट्रस की समस्याओँ का समाधान होता है।
  • डायबिटीस ठीक हो जाती है।
  • गैस, constipation और एसिडिटी जैसी समस्या में आराम मिलता है।
  • कैंसर रोग के ठीक होने की सम्भावना होती है।
  • हिमोग्लोबिन बढ़ाता है।
  • कोलेस्ट्रोल घटाता है।
  • सभी प्रकार की allergy मिट जाती है।
  • कपालभाती करने से डायलेसिस कराने की जरुरत नहीं पडती।
  • यह शरीर में कैल्शियम बढ़ाता है।
Loading...

Source: healthindian

कृपया इस महत्वपूर्ण जानकारी को अपने परिवार और मित्रों  के साथ ज्यादा से ज्यादा शेयर करें!

Loading...

Next post:

Previous post: