आयुर्वेद की मदद से पेट के चर्बी को कम करें

Loading...
आज के आधुनिक जीवनशैली का परिणाम है मोटापा। मोटापे का एक रूप है पेट में चर्बी, जो पूरे शरीर के बनावट को बिगाड़ देता है। यह चर्बी वाला पेट आपके सुंदर शरीर के बनावट को बदसूरत बना देता है। सच तो यह है कि इसके लिए जिम्मेदार आप खुद ही होते हैं। आपका रहन-सहन ही इसका मूल कारण होता है। आजकल समय के अभाव के कारण लोग रेडीमेड फूड, प्रोसेस्ड फूड, जंक फूड खाने के आदि हो गए है। ऑफिस से लौटने पर खाना बनाने का मन नहीं करने पर रेस्तरां में खाने चले जाते हैं, वहाँ के मसालेदार खाने का असर आपके पेट को चुकाना पड़ता है।

Belly Fat

आयुर्वेदिक  तरीके से पेट की चर्बी को कम करने के लिए-

दिन की शुरूआत आप गर्म पानी पीकर करें। मेटाबॉलिज़्म को बढ़ाने के लिए गर्म पानी में नींबू का रस और थोड़ा नमक मिलाकर पीयें। खाने में  अंडे को शामिल करें क्योंकि इसमें प्रोटीन होता है जो मेटाबॉलिज़्म को बढ़ाने में मदद करने के साथ-साथ कैलोरी को भी नष्ट करता है।

पर्याप्त मात्रा में पानी पीने से शरीर का विषाक्त पदार्थ निकलने के साथ-साथ मेटाबॉलिज़्म का दर भी बढ़ता है। पूरे दिन नियमित अंतराल में एक गिलास पानी पीयें।

खाने में चावल के जगह पर गेहूं के बने खाद्द पदार्थ खायें जैसे- ब्राउन राइस, ब्राउन ब्रेड, होल ग्रेन, ओट्स आदि। अपने आहार में मांसाहारी खाद्द का सेवन कम करें। रोज सुबह और शाम नाश्ते में फल खायें इससे न सिर्फ आपको विटामिन, मिनरल, फाइबर और एन्टीऑक्सिडेंट मिलेगा साथ ही भूख भी नहीं लगेगी।

रोज़ सुबह दो फाँक लहसुन खायें, उसके बाद नींबू का पानी पीयें। वज़न घटने की प्रक्रिया दोगुनी बढ़ जाती है और शरीर में रक्त संचार अच्छी तरह होने लगता है।

खाना बनाते वक्त व्यंजन में मसाले के रूप में दालचीनी, काली मिर्च, अदरक डालें। ये रक्त में ग्लूकोज़ के स्तर को कम करने में मदद करते हैं।

पेट की चर्बी कम करने के लिए खाने में नमक की मात्रा को कम करना न भूलें। फाइबरयुक्त नाश्ता करें और व्यायाम करना न भूलें।

Source: shiromaninews

Loading...

कृपया इस महत्वपूर्ण जानकारी को अपने परिवार और मित्रों  के साथ ज्यादा से ज्यादा शेयर करें!

Loading...

Next post:

Previous post: