बैक पेन – लाइफस्टाइल में लाएं बदलाव

Loading...

आप काफी देर तक बिना कुर्सी से उठे डेस्क पर काम करते हैं, जिससे आपको पीठ दर्द की परेशानी का सामना करना पड़ता है. कई तो बैक पेन की तकलीफ से लगातार जूझते रहते हैं. आप अपने ऑफिस या घर में कंप्यूटर पर काम करने में कुछ सावधानियों पर ध्यान देंगे तो बैक पेन से हमेशा बचे रह सकते हैं.

Back-Pain-Bring-a-change-in-lifestyle

वजह-

बैठने का पोस्चर (कुर्सी के सहारे पीठ करने बैठने की जगह आगे की ओर झुक कर बैठना या पीठ को बिलकुल झुका कर बैठना.)

ब्रेक नहीं लेना (ज्यादातर कंप्यूटर पर काम करने वाले लोग लंब वक्त तक कुर्सी से चिपके रहते हैं और कई घंटों तक ब्रेक नहीं लेते हैं.)

लाइफस्टाइल (एक्सरसाइज नहीं करना, पैदल चलना और सीढ़ियां चढ़ने से बचना.)

विटामिन D की कमी (ऑफिस में काम करने वाले ज्यादातर लोग धूप से महरूम रहते हैं, जिसकी वजह से उनके शरीर में विटामिन डी की कमी हो जाती है.)

स्ट्रेस/टेंशन (ज्यादा तनाव लेने की वजह से भी इस तरह की समस्या हो सकती है.)

अधिक बोझ पीठ पर लादकर चलना (ज्यादा वजन उठाने की वजह से भी पीठ और कमर दर्द की समस्या हो सकती है.)

मोटापा(मोटापा भी पीठ या कमर के दर्द की एक बड़ी वजह है.)

आमतौर पर उम्र बढ़ने के साथ शुरू होने वाले पीठ दर्द की शिकायत अब 30-35 साल के उम्र में ही लोगों को होने लगी है.

बैक पेन के लक्षण:

पीठ के नीचले हिस्से या कमर में लगातार हल्का-हल्का दर्द होना.

शरीर में बहुत अधिक अकड़न और दर्द होना.

बैक पेन से कैसे मिलेगा छुटकारा:

जितना संभव हो सके सीधे बैठने और चलने की कोशिश करें.

आगे झुकने वाले आसन न करें और ज्यादा दर्द होने पर बिना डॉक्टर की सलाह लिए कोई एक्सरसाइन न करें.

ज्यादा देर तक लगातार कुर्सी पर न बैठें. आधे-आधे घंटे के अंतराल पर उठकर थोड़ी देर टहल लें.

ज्यादा वजनदार चीज न उठाएं.

विटामिन D की कमी पूरी करने के लिए धूप में टहलें और डॉक्टर की सलाह लेकर विटामिन डी के टैबलेट लें.

सही गद्दे का चुनाव: आप जब सो रहे होते हैं तो दिन भर काम करने वाली रीढ़ की हड्डी को आराम करने का अवसर मिलता है. महत्वपूर्ण बात यह है कि सही ढंग से सो कर आप अपनी पीठ की रक्षा कर सकती हैं. इसलिए इस बात का खास खयाल रखें कि आपके बेड के गद्दे की फोम न तो अधिक सख्त हो और न ही अधिक नर्म.

 दर्द बढ़ते ही डॉक्टर के पास पहुंचें: किसी भी अन्य समस्या की तरह पीठ दर्द के लक्षणों को नजरअंदाज न करें और इलाज में देरी न करें.

आपको बता दें कि पीठ के दर्द से अन्य समस्याएं भी हो सकती हैं. जैसे- आपकी पीठ में चोट लगी है और आपकी पीठ की गतिविधियां सामान्य नहीं हैं, दर्द निवारक भी काम नहीं कर रही तो महत्वपूर्ण है कि अपनी इस चिंता के बारे में डॉक्टर से सलाह लें.

Source: palpalindia

Loading...

वाह हिंदी की चटपटी खबरें, अब Facebook पर पाने के लिए लाईक करें—>fb.com/WahHindi

Loading...

Next post:

Previous post: